चंडीगढ़, जेएनएन। School National Games में खिलाड़ियों को मिले ट्रैकसूट की खरीद में घपलेबाजी के आरोप लगने के बाद शिक्षा विभाग ने जांच करने का निर्णय लिया था। इसी कड़ी में विभाग ने स्कूल नेशनल गेम्स में खिलाड़ियों को दिए गए ट्रैकसूट को जांच के लिए लैब में भेज दिया है। विभाग की ओर से टेस्टिंग के लिए करीब 10 से ज्यादा ट्रैकसूट भेजे हैं। जबकि खिलाड़ियों को 50 से ज्यादा ट्रैकसूट बांटे गए थे। ऐसे में यह सवाल भी खड़ा हो रहा है कि जब खिलाड़ियों को 50 ट्रैक सूट बांटे गए थे तो फिर लैब टेस्टिंग के लिए 10 ट्रैक सूट ही क्यों भेजे गए।

ट्रैकसूट अपने साथ ही ले गए कई खिलाड़ी

वहीं जिला शिक्षा अधिकारी ऑफिस के एक अधिकारी ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि दूसरे राज्यों से आए कई खिलाड़ी ट्रैकसूट अपने साथ ही ले गए। ऐसे में सभी ट्रैकसूट की जांच संभव नहीं है। सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि विभाग ने भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त एक लैब में ट्रैकसूट को टेस्टिंग के लिए भेजा है। अगर रिपोर्ट में यह पाया जाता है कि ट्रैकसूट बनाने में घटिया क्वालिटी का कपड़ा प्रयोग हुआ है, तो संबंधित व्यक्ति पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 

घटिया क्वालिटी का कपड़ा इस्तेमाल करने के लगे थे आरोप

बता दें कि लुधियाना निवासी सुमित नाम के व्यक्ति ने आरोप लगाया कि ट्रैकसूट की खरीद में बड़ी घपलेबाजी हुई है। सुमित ने अपनी शिकायत में लिखा था कि ट्रैकसूट बनाने में जिस कपड़े का प्रयोग हुआ था, वह घटिया क्वालिटी का था। इस आरोप को गंभीरता से लेते हुए शिक्षा विभाग ने ट्रैक सूट की जांच करने का निर्णय लिया था। इस निर्णय के तहत शिक्षा विभाग ने स्कूल नेशनल गेम्स में खिलाड़ियों को दिए गए ट्रैकसूट को जांच के लिए लैब में भेज दिया है।

गौरतलब है कि पिछले माह शहर में स्कूल नेशनल गेम्स का आयोजन हुआ था। इसमें खिलाड़ियों को कथित तौर पर घटिया क्वालिटी का ट्रैकसूट मुहैया करवाया गए थे। वहीं शिक्षा विभाग ने इस बात का खंडन किया था।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!