जासं, चंडीगढ़ : कोरोना की तीसरी लहर का कहर अब थम चुका है। पॉजिटिव मामले कम हुए तो प्रशासन ने भी राहत का सिलसिला शुरू कर दिया है। 26 दिनों से बंद शहर की लाइफलाइन सुखना लेक के साथ जिम और शिक्षण संस्थान को भी खोलने की मंजूरी दे दी गई है। वीरवार को कोविड वॉर रूम मीटिग के दौरान प्रशासक बनवारी लाल पुरोहित ने हालात की अधिकारियों से समीक्षा करने के बाद राहत देने के आदेश जारी किए। प्रशासक ने कम हो रहे पॉजिटिव मामलों पर संतुष्टि जाहिर करते हुए लोगों से कोविड प्रोटोकॉल को अपनाने का आग्रह करते हुए पाबंदियों में ढील देने का आदेश दिया। हालांकि यह आदेश शुक्रवार से लागू होंगे। सुखना लेक पर आवाजाही बहाल

कोविड के मामले बढ़ने पर दो जनवरी को सुखना लेक बंद करने के आदेश दिए गए थे। अब 27 दिनों बाद लेक को खोलने की मंजूरी दी गई है। लेक पर बोटिग और दूसरी सभी एक्टिविटी को भी मंजूरी दे दी गई है। हालांकि लेक पर मौजूद मार्केट कोविड सेनिटाइजेशन प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही खुलेगी। सुखना लेक अब रोजाना सुबह पांच बजे से रात दस बजे तक पहले की तरह खुली रहेगी। हालांकि अभी दूसरे कोई पर्यटन स्थल खोलने की मंजूरी नहीं दी गई है। मार्केट रात 10 तक खुलेंगी

प्रशासन ने दुकानदारों के हो रहे नुकसान और मांग को देखते हुए शहर की सभी मार्केट को अब रात दस बजे तक खोलने की मंजूरी दे दी है। इसके अलावा अपनी मंडी भी रात दस बजे तक लगेगी। अब लोग अपने सेक्टर में लगने वाली अपनी मंडी से ही खरीददारी कर सकेंगे। जिम और हेल्थ फिटनेस सेंटर को भी 50 फीसद क्षमता के साथ रात दस बजे तक खोलने की मंजूरी दे दी गई है। शर्त यह रहेगी कि स्टाफ और सभी यूजर्स को कोविड की दोनों डोज लगी होनी अनिवार्य है। केस बढ़ने पर छह जनवरी को प्रशासन ने पांच भीड़ वाली मार्केट को शाम पांच बजे बंद करने के आदेश दिए थे। जिम और शिक्षण संस्थान बंद कर दिए थे। एक फरवरी से खुलेंगे शिक्षण संस्थान

प्रशासन ने हालात नियंत्रण में होने पर अब स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी और शिक्षण संस्थानों को खोलने की मंजूरी दे दी है। पहली फरवरी स्कूलों में 10वीं और 12वीं की ऑफलाइन कक्षाएं शुरू हो सकेंगी। कॉलेज और यूनिवर्सिटी को भी सामान्य तौर पर खोलने की मंजूरी दे दी गई है। सभी सरकारी लाइब्रेरी को भी 50 फीसद क्षमता के साथ खोलने की मंजूरी मिल गई है। 15 वर्ष से अधिक आयु के स्टूडेंट्स का ऑफलाइन क्लास अटैंड करने के लिए कम से कम एक वैक्सीन की डोज लगी होनी अनिवार्य रहेगी। वहीं स्टाफ, अधिकारी और स्टूडेंट्स जो 18 वर्ष या इससे अधिक के हैं उन्हें दोनों डोज लगी होनी जरूरी है। कोचिग इंस्टीट्यूट को 50 फीसद क्षमता के साथ खोला जा सकता है। वैक्सीन यहां भी जरूरी है। पुलिस को सख्ती बरतने के आदेश

प्रशासक पुरोहित ने सभी पब्लिक प्लेस पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन के लिए सख्ती रखने के आदेश पुलिस को दिए हैं। उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों को कोरोना संक्रमण की बारीकी से मॉनीटरिग को कहा है। बढ़ोतरी पर तुरंत कंटेनमेंट एक्शन लेने के आदेश दिए हैं।

Edited By: Jagran