जेएनएन, चंडीगढ़। श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी और गोलीकांड की जांच कर रही विशेष जांच टीम (एसआइटी) के सदस्‍य आइजी कुंवर विजय प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से पिछली अकाली सरकार में मंत्री रहे दो नेताओं के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज करने की इजाजत मांगी है। कुंवर विजय प्रताप ने कहा कि इन दोनों मंत्रियों ने न सिर्फ उनके सम्मान को ठेस पहुंचाई, बल्कि ऐसा करके जांच में भी बाधा डाली है। 

बता दें, कुंवर विजय प्रताप पंजाब के बहुचर्चित आइपीएस अफसर हैं। वह श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी और गोलीकांड की जांच कर रही विशेष जांच टीम (एसआइटी) के सदस्‍य हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान अकाली नेताओं की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने कुंवर विजय प्रताप सिंह कुछ समय के लिए जांच से हटा दिया था। हालांकि चुनाव के बाद वह फिर टीम में शामिल हो गए थे।

एसआइटी के सदस्‍य कुंवर विजय प्रताप सिंह के एक इंटरव्यू को आधार बनाकर शिरोमणि अकाली दल ने चुनाव आयोग से शिकायत दी थी और उसके बाद उन्हें एसआइटी से हटा दिया गया है। अकाली दल ने आरोप लगाया था कि कुंवर विजय प्रताप सिंह कांग्रेस के कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे थे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!