चंडीगढ़, जेएनएन। भगवान हनुमान संकट मोचन है। इस समय भी संसार पर कोरोना वायरस नाम का संकट आया हुआ है। जिसके निवारण के लिए बेहतर है कि हम भगवान हनुमान का नाम लें। हनुमान जयंती पर हर व्यक्ति घर में सुंदरकांड का पाठ करके हनुमान चालीसा पढ़कर कामना कर सकता है कि जल्दी से विश्व को इस वायरस से मुक्ति मिले। यह जानकारी सेक्टर-40 स्थित हनुमान मंदिर के पुजारी राजेश ने दी।

पंडित ने बताया कि हर साल हनुमान मंदिरों में विधि विधान से हम पूजा पाठ करवाते थे, लेकिन इस बार हमने घरों से ही पूजा पाठ करवाने का निर्णय लिया है। इसके लिए सभी श्रद्धालुओं से अपील है कि मैं घर में ही सुबह छह बजे से हनुमान का पाठ कर सकते हैं। पंडित राजेश ने बताया कि इस बार सात और आठ तारीख को हनुमान जयंती को मनाया जा सकता है।

हनुमान की फोटो रख प्रसाद के साथ करे सुंदरकांड का पाठ पंडित

राजेश ने बताया कि बुधवार सुबह लोग घर में पूजा स्थान पर हनुमान की कोई भी फोटो रख सकते हैं। जिसके आगे प्रसाद के तौर पर वह हलवा बनाकर रख सकते हैं, उसके बाद सुंदरकांड का पाठ करें। जिसमें भगवान हनुमान की महिमा का गुणगान हो। सुंदरकांड का पाठ खत्म होने के बाद हनुमान चालीसा पढ़ा जा सकता है और प्रसाद को परिवार में ही बांटकर भगवान हनुमान से कामना की जा सकती है कि एक बार फिर से दुनिया में संकट मोचन बनकर आए हैं और हमें कोरोना नाम के वायरस से मुक्ति दिलाएं।

पिंक ब्रिगेड ने मंगलवार को मनाई हनुमान जयंती

हुनमान जयंती दो दिन होने के कारण मंगलवार को पिंक ब्रिगेड की महिला सदस्यों ने हनुमान जयंती मनाई। उल्लेखनीय है कि ¨पक ब्रिगेड हर साल सेक्टर-40 के हनुमान मंदिर में केक काटकर हनुमान जयंती मनाते थे, लेकिन इस बार दोपहर तीन बजे के करीब सभी महिलाओं ने घर पर सुंदरकांड का पाठ करके और प्रसाद बनाकर परिवार के सदस्यों में बांधकर हनुमान जयंती मनाई। पिंक ब्रिगेड की अध्यक्षा नीना तिवारी ने बताया कि भगवान हनुमान हर घर में वास करते हैं, विधि विधान से पूजा करने पर और व्रत रखकर भी महावीर की जयंती को मनाया जा सकता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!