चंडीगढ़, [कुलदीप शुक्ला]। हल्लो माजरा लाइट प्वाइंट पर बीते दिनों शिमला निवासी कार सवार भाई बहन से 500 रुपये की रिश्वत लेने के मामले में ड्यूटी पर मौजूद हेड कांस्टेबल राजकुमार और कांस्टेबल नवीन को लाइन हाजिर कर दिया गया। जबकि उसी दिन युवती से पैसे लेकर हंगामे के बाद वापस देने का वीडियो वायरल होने के बाद तुरंत ही होमगार्ड वालंटियर संजीव राणा को बर्खास्त कर दिया गया था। 

 

बता दें कि 11 सितंबर को हिमाचल नंबर कार सवार भाई बहन नाडा साहिब की ओर जा रहे थे। जैसे ही वे हेलो माजरा लाइट प्वाइंट के पास पहुंचे कि अचानक होमगार्ड वालंटियर संजीव राणा ने उन्हें इशारा कर रोक लिया। वालंटियर ने उन्हें नए मोटर व्हीकल एक्ट का हवाला देते हुए बताया कि आप रॉन्ग साइड टर्न लेकर आ रहे थे, जिसका महंगा चालान है। इसी तरह बातों में फंसाकर कार चालक से 500 रुपये पकड़ लिए। लेकिन कुछ ही देर बाद मौके पर भीड़ जुटने और मीडिया कर्मियों के पहुंचने के बाद वालंटियर ने युवती को पैसे ऑन कैमरा वापस कर दिए।

गौरतलब हो कि नई मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद चंडीगढ़ ट्रेफिक पुलिस के दो मुलाजिमों को चालान छोड़ने के एवज में 1000 रुपये लेने के आरोप पर तत्काल विभाग द्वारा डिसमिस कर केस दर्ज करवाया गया है। 

 

 रिश्वत मामले में ड्यूटी पर तैनात हेड कांस्टेबल राजकुमार को पुलिस लाइन और कांस्टेबल नरेश को आईआरबी भेज दिया गया है। इनके खिलाफ जांच अभी जारी है। 

शशांक आनंद, एसएसपी ट्रैफिक।

 

Posted By: Vikas Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!