संवाद सहयोगी, डेराबस्सी : डेराबस्सी नगर परिषद के तहत वार्ड नंबर 17 में गांव डेरा जगाधरी में हरिजन धर्मशाला का निर्माण सियासत की भेंट चढ़ा गया है। नींव पत्थर रखने के तीन साल बाद भी धर्मशाला के निर्माण के लिए एक ईंट भी नहीं लग सकी, जिससे लोगों में रोष पाया जा रहा है। नगर प्रशासन और संबंधित ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए वार्ड पार्षद समेत लोगों ने उच्चाधिकारियों से शिकायत की है।

21 लाख 82 हजार रुपये की लागत से होना है धर्मशाला का निर्माण

जानकारी मुताबिक डेरा जगाधरी दलित बहुल आबादी वाला गांव है, जहां 80 फीसद लोग दलित बिरादरी से हैं। वार्ड पार्षद दविदर सिंह सैदपुरा ने बताया कि 2016 के दिसंबर में यहां 21 लाख 82 हजार रुपये की लागत से हरिजन धर्मशाला के निर्माण का नींव पत्थर तत्कालीन एमएलए एन के शर्मा द्वारा रखा गया था। गांव की आबादी के मद्देनजर गरीब परिवारों के लिए विवाह समेत अन्य समारोह के लिए कोई भी जगह नहीं है। धर्मशाला के लिए नींव पत्थर रखने के बाद चुनाव आचार संहिता लग गई। इसके बाद सरकार बदल गई सरकार बदलने के साथ ही हरिजन धर्मशाला का निर्माण कार्य भी सियासत की भेंट चढ़ गया। पार्षद दविदर ने बताया कि उक्त प्रोजेक्ट के लिए बजट राशि के अलावा टेंडर भी हो चुके हैं परंतु बार-बार संबंधित अधिकारियों एवं ठेकेदारों से अनुरोध करने के बावजूद यहां पर निर्माण कार्य शुरू नहीं किया जा रहा। संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग

पार्षद ने कहा कि जिन अफसरों और ठेकेदारों की वजह से यह निर्माण कार्य तीन साल बीत जाने के बावजूद भी शुरू नहीं हुआ है उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। यह मांग करते हुए पार्षद ने स्थानीय निकाय के अधिकारियों एवं स्थानीय सरकार विभाग के उच्च अधिकारियों को शिकायत भेजी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!