चंडीगढ़, [डॉ. रविंद्र मलिक]। प्रेमी ने दूसरी लड़की से शादी कर ली तो भड़की प्रेमिका ने बदला लेने के लिए उसका प्राइवेट पार्ट ही काट डाला। इस पर परिजन युवक को पीजीआइ चंडीगढ़ ले आए। डॉक्टर भी मामला देखकर हैरान रह गए और 12 वरिष्ठ डॉक्टरों ने करीब 12 घंटे लंबी सर्जरी कर युवक की जान बचा ली।

पीजीआइ में 12 वरिष्ठ डॉक्टरों की टीम ने किया सहारनपुर के युवक का ऑपरेशन

मामला सहारनपुर (उत्तर प्रदेश) का है। यहां एक युवक ने प्रेमिका को धोखा देकर दूसरी लड़की से शादी कर ली। इस पर प्रेमिका ने युवक को बहाने से होटल में बुलाया और उसे बांध दिया। फिर तेजधार हथियार से उसका प्राइवेट पार्ट काट दिया। परिजनों को घटना का पता चला तो वह लहूलुहान युवक को पीजीआइ लेकर पहुंच गए। इसके बाद डॉक्टरों की मीटिंग बुलाई गई।

यह भी पढ़ें: फिर गूंजी सिद्धू वाणी - काल उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का....

12 वरिष्ठ डॉक्टरों की टीम ने युवक की सर्जरी शुरू दी और करीब 12 घंटे के ऑपरेशन के बाद युवक की जान बचा ली और प्राइवेट पार्ट भी जोड़ दिया। फिलहाल युवक की हालत खतरे से बाहर है और डॉक्टरों की टीम उस पर नजर रखे हुए है।

पीड़ित ने सुनाई आपबीती

युवक ने डॉक्टरों को रोते हुए बताया कि उसकी शादी से प्रेमिका काफी नाराज थी। प्रेमिका ने उसे होटल में बुलाया। जब वह होटल पहुंचा तो लड़की ने उसे बांध दिया और फिर तेजधार हथियार से प्राइवेट पार्ट काट दिया। इसके बाद उसने किसी तरह परिजनों को घटना की जानकारी दी।

पीजीआइ में ऐसा चौथा केस

पीजीआइ में इससे पहले प्राइवेट पार्ट के रि-इंप्लांटेशन के तीन ऑपरेशन हो चुके हैं। पीजीआइ एक्सपर्ट के अनुसार, ऑपरेशन की सफलता इस बात पर ज्यादा निर्भर करती है कि किस हालत में कटा हुआ प्राइवेट पार्ट लाया गया और उसे रि-इंप्लांट किया गया।

यह भी पढ़ें: बड़ी राहत पर भावुक हुए नवजोत सिद्धू, सुप्रीम कोर्ट से गैरइरादतन हत्‍या मामले में बरी

------

''ऑपरेशन हो गया है। ऑर्गन को रि-इंप्लांट कर दिया गया है। अभी इसके सही तरीके से काम करने पर कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। तीन से चार दिन के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

                                                                 - प्रो. एके मंडल, प्रमुख, डिपार्टमेंट ऑफ यूरोलॉजी, पीजीआइ।

By Sunil Kumar Jha