मोहाली, जेएनएन। ग्रेटर मोहाली एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी (ग्माडा) मोहाली शहर के मार्केट्स में अवैध निर्माण के खिलाफ अभियान चलाने जा रहा है। शहर के विभिन्न बाजारों में स्थित सिंगल स्टोरी बूथों या दुकानों के मालिकों ने अवैध निर्माण कर पहली मंजिल बना ली है। कुछ दुकानदारों ने स्टोर भी बना रखे हैं। ऐसे अवैध निर्माणों के खिलाफ ग्माडा ने सख्त कदम उठाकर कार्रवाई शुरू कर दी है।

अब ग्माडा ने ऐसे बूथों का निरीक्षण कर उन पर किए गए अवैध निर्माण गिराने की रणनीति बनाई है। इसके साथ ही ऐसे बूथ मालिकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाएगी। ग्माडा के अधिकारियों ने कहा कि किसी को भी नियम तोड़ने की अनुमति नहीं है और सभी को बिल्डिंग बॉयलाज के नियमों का सभी को पालन करना होगा।ध्यान रहे कि इस बार नगर निगम चुनाव के दौरान कांग्रेस ने अपने चुनाव घोषणा पत्र में वादा किया है कि दुकानदारों को पहली मंजिल बनाने की अनुमति दी जाएगी। लेकिन इससे पहले ही गमाडा अभियान चलाने जा रहा है।

गमाडा की तरफ से कई साल पहले शहर के विभिन्न हिस्सों मेें सिंगल स्टोरी बूथ या दुकानें बनाई गई थीं। जबकि

अब इलाके में जगह कम होती जा रही है। ऐसे अपनी जरूरतों के हिसाब से काफी समय से मांग कर रहे हैं कि उन्हें पड़ोसी राज्य हरियाणा की तर्ज पर बाजारों में सिंगल स्टोरी बूथों पर दूसरी मंजिल बनाने की अनुमति दी जाए। जबकि गमाडा की ओर से नए सेक्टरों में अब डबल स्टोरी ही बनाई जा रही है। इस संबंधी कई बार दुकानदार अधिकारियों से मिल चुके हैं। हालांकि पिछले साल कोरोना की दस्तक के बाद से यह काम बीच में रह गया था। जबकि इसी बीच हुए लॉकडाउन में पता चला है कि कुछ लोगों ने अवैध तरीके से निर्माण कर लिया था। यह मामला ग्माडा के अधिकारियों तक भी पहुंचा है। वहीं, अब गमाडा ने ऐसे सभी बाजारों और दुकानों का निरीक्षण करवाने का फैसला लिया है। जिससे अवैध निर्माण का पता लगाया जा सके। इसके बाद जिन लोगों ने अवैध निर्माण किया होगा, उसे ग्माडा की तरफ से नोटिस भेजकर गिराने के आदेश दिए जाएंगे। गमाडा ने अपने फील्ड स्टाफ को इस पर नजर रखने की हिदायत दी है।

ग्माडा ने अवैध मकान और दुकानें गिराईं थीं

कुछ समय पहले ग्माडा ने गांव झामपुर, बहलोलपुर और लंबिया में बनाए गए अवैध मकान और दुकानें गिराईं थीं और अपनी जमीन से कब्जा हटाया था। व्यापार मंडल के महासचिव सरबजीत पारस का कहना है सिंगल स्टोरी बूथों पर पहली मंजिल बनाने के लिए उनकी तरफ से विभाग के मंत्री से मुलाकात की गई थी। इस संबंधी उन्हें सभी दस्तावेज और पड़ोसी राज्यों में चल रहे बूथों के निर्माण के बारे में बताया था। उस समय उन्होंने व्यापार मंडल के सामने हामी भरी थी। लेकिन अब ग्माडा इस तरह सख्ती कर रहा है, जो कि ठीक नहीं है। शहर के अन्य हिस्सों में ग्माडा खुद बाजारों में पहली मंजिल बना रहा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप