मोहाली, [रोहित कुमार]। पंजाब सरकार में नई कैबिनेट की घोषणा हो चुकी है। कुछ पुराने मंत्रियों की नई कैबिनेट से छुट्टी हो गई है। उनमें से एक बलबीर सिंह सिद्धू भी हैं। उन्हें नए घोषित किए गए मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया गया है, जबकि कैप्टन की कैबिनेट में वह स्वास्थ्य मंत्री थे। ऐसे में अब बलबीर सिंह सिद्धू नए मंत्रिमंडल में शामिल न किए जाने के बाद कई सवालों से भी घिर गए हैं।

मंत्री पद से छुट्टी होने के बाद बलबीर सिंह सिद्धू से जब पूछा गया कि आम आदमी पार्टी व विपक्ष ने जिन मंत्रियों पर आरोप लगाए थे उनकी ही कैबिनेट से छुट्टी हुई है। इस पर विधायक बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा कि किसी पर आरोप लगाना आसान होता है, आरोप को साबित करना बेहद मुश्किल। उन्होंने कहा कि मोहाली के बलौंगी स्थित बाल गोपाल गोशाला ट्रस्ट को जो जमीन मिली है क्या उसमें मैंने अपनी कोठी नहीं बनाई है, कोई होटल बनाया है या फिर अपना बिजनेस शुरू किया है। वहां गोशाला ही बनाई गई है। सिद्धू ने कहा कि वे किसी भी जांच के लिए तैयार हैं। जो ट्रस्ट बना है उससे शहर के लोगों को ही फायदा होगा।

 

मंत्री पद से हटाए जाने पर सिद्धू ने कहा कि यह फैसला हाईकमान का है। वैसे भी मंत्री रहते मैं अपने हलके को समय नहीं दे पा रहा था। लेकिन अब मैं फिर से 2022 के लिए मैदान में उतर रहा हूं। सवाल के जवाब में सिद्धू ने कहा कि मंत्री का पद जाने में कैप्टन अमरिंदर सिंह का खास होना कोई मायने नहीं रखता यह फैसला पार्टी का है। सभी को मौका मिलना चाहिए और अब नए चेहरों को मौका मिल रहा है। फिर अगर पार्टी ड्यूटी लगाएगी तो फिर काम कंरूगा।

सिद्धू ने कहा कि अपने कार्यकाल के दौरान मोहाली को मेडिकल कॉलेज देना और कई प्राइमरी हेल्थ सेंटरों को अपग्रेड कर कम्यूनिटी हेल्थ सेंटर बनाया है। जितना समय भी मंत्री रहा लोगों के हित के लिए काम किया। कोविड को पूरी तरह से काबू रखा। सूबे के लोगों को किसी तरह की शिकायत का मौका नहीं मिला। सिद्धू ने कहा किवे आगे भी लोगों के लिए काम करते रहेगें। मैं कांग्रेस पार्टी का वर्कर हूं और काम करता रंहूगा। सिद्धू मोहाली के फेज-2 में कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे थे।

Edited By: Ankesh Thakur