जेएनएन/एएनआइ, चंडीगढ़। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह गृह मंत्री अमित शाह से मिलने उनके आवास पर पहुंचे। इस दौरान दौरान अमित शाह ने कैप्टन का गर्मजोशी से स्वागत किया। दोनों नेताओं के बीच लगभग 45 मिनट तक बातचीत हुई। इस बातचीत में कृषि कानूनों के मुद्दे पर चर्चा हुई। कैप्टन के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने ट्वीट कर जानकारी दी कि उन्होंने शाह से कानूनों को निरस्त करने और एमएसपी की गारंटी के साथ संकट को तत्काल हल करने का आग्रह किया। बताया जाता है कि दोनों नेताओं के बीच किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए ब्लूप्रिंट पर चर्चा हुई। 

इस बीच, सूचना है कि कैप्टन भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात कर सकते हैं। इसके अलावा कांग्रेस के जी-23 नेताओं से भी मिल सकते हैं। कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को कहा था कि वह कल बड़ा कदम उठा सकते हैं। ऐसे में उनकी अमित शाह से मुलाकात से पंजाब की सियासत में भूचाल से आ गया है और चर्चा गर्म हो गई है कि क्‍या वह भाजपा में शामिल हो सकते हैं। माना जा रहा है कि कैप्‍टन किसान आंदोलन मामले का समाधान कराने में अहम भूमिका निभा सकते हैं।

पंजाब की राजनीति के हिसाब इसे बेहद महत्वपूर्ण घटना बताया जा रहा है। कैप्टन अमरिंदर कल दिल्ली गए थे। तब से ही संभावना जताई जा रही थी कि वह अमित शाह सहित कई अन्य वरिष्ठ भाजपा नेताओं से मुलाकात करेंगे। हालांकि तब कैप्टन के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने इसे  कयासबाजी करार दिया था। रवीन ठुकराल ने कहा था कि वह दिल्ली स्थित कपूरथला हाउस को खाली करने के लिए दिल्ली गए हैं। जब आज शाह व कैप्टन की मुलाकात के बारे में ठुकराल से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा। 

वहीं, पंजाब कांग्रेस में नवजोत सिंह सिद्धू के प्रधान पद से इस्तीफा देने के बाद राज्य में राजनीति गरमाई हुई है। चर्चाओं का बाजार गर्म है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह किसान आंदोलन को खत्म कराने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। कैप्टन की इससे पहले भी मुख्यमंत्री रहते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात होती रही, लेकिन सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद इस मुलाकात को अहम माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें: कैप्टन अमरिंदर की अमित शाह से भेंट पर पंजाब में सियासत गर्माई, बड़ा सवाल- क्‍या होगा पूर्व सीएम का अगला कदम

दरअसल, कैप्टन अमरिंदर सिंह को जिस तरीके से कांग्रेस ने सीएम पद से हटाया उससे वह आहत थे। बताया जा रहा है कैप्टन अमरिंदर सिंह को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। उन्हें कृषि मंत्री बनाकर किसानों का मुद्दा हल करने के लिए कहा जा सकता है। सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि कैप्टन कोई बड़ा कदम उठा सकते हैं। यदि कैप्टन भाजपा में शामिल होते हैं तो पंजाब में पार्टी को बड़ा चेहरा मिल जाएगा।

कृषि कानूनों को लेकर किसानों का आंदोलन चल रहा है। इससे पंजाब में भाजपा के लिए विधानसभा चुनावों में स्थिति विकट बनी हुई है। ऐसे में यदि कैप्टन भाजपा का चेहरा बनते हैं और किसानों के आंदोलन को सम्मानजनक तरीके से खत्म करवाते हैं तो  पार्टी पंजाब में बड़ा हाथ मार सकती है। कैप्टन अमरिंदर की छवि का फायदा भाजपा को पड़ोसी राज्यों हिमाचल व हरियाणा में भी मिल सकता है। 

Edited By: Kamlesh Bhatt