चंडीगढ़, जेएनएन। पंजाब सरकार कोरोना वायरस कोविड-19 से पैदा संकट के कारण राज्‍य की बिगड़ी आर्थिक हालत को लेकर बेहद चिंतित है। सरकार ने राज्य की आर्थिक स्थिति को पटरी पर लाने के लिए एक और कदम उठाया है। योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह आहलूवालिया के नेतृत्व वाले माहिरों के ग्रुप ने पांच सब ग्रुप तैयार किए हैैं। इसके साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने भी राज्य की अर्थव्यवस्था और प्रगति को फिर बहाल करने के लिए अपना मार्गदर्शन देने को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की अपील को स्वीकार कर लिया है।

पंजाब सरकार ने आर्थिक विशेषज्ञों के पांच सब ग्रुप भी बनाए

आहलूवालिया के नेतृत्व वाले ग्रुप ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के द्वारा मुख्यमंत्री से बात की। आहलूवालिया ने पांच सब ग्रुप में वित्त, कृषि, स्वास्थ्य, उद्योग और सामाजिक सहायता बनाए गए हैं। इन ग्रुपों का हरेक चेयरपर्सन एजेंडा आगे ले जाने के लिए वर्करों को लामबंद करेगा। उन्‍होंने कहा कि हम जरूर बेहतर हल लेकर सामने आएंगे। उद्योगपति एसपी ओसवाल ने कहा कि राज्य और उद्योग को मुश्किल समय का सामना करना पड़ रहा है जिसके लिए सख्त फैसले लेने की जरूरत है।

कैप्टन ने ग्रुप को बताया कि राज्य की वित्तीय स्थिति कमज़ोर है जिसको मासिक 3360 करोड़ रुपये का राजस्व घाटा हुआ है। राज्य के नगदी के आदान-प्रदान में मुकम्मल तौर पर ठहराव आ चुका है। बिजली के इस्‍तेमाल में 30 फीसद की कमी आई है। बिजली बोर्ड को बिजली दरें एकत्रित करने में रोज़ाना 30 करोड़ का घाटा हो रहा है।

 

यह भी पढ़ें: 66 साल पूर्व नंगल बना था भारत-चीन में 'पंचशील समझौता' का गवाह, मिले थे नेहरू व चाऊ

यह भी पढ़ें: आर्थिक संकट से निपटने को बड़ा कदम: हरियाणा में एक साल तक नई भर्ती पर रोक, कर्मचारियों की एलटीसी बंद

 

यह भी पढ़ें: अनिल विज ने कहा- दिल्‍ली के कर्मचारी हरियाणा में बने कोरोना वाहक, केजरी इस पर रोक लगाएं


यह भी पढ़ें: महिला IAS मामले में केंद्रीय मंत्री गुर्जर का बड़ा बयान, कहा- 'रानी बिटिया' संग नहीं होने देंगे नाइंसाफी


 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!