जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। चंडीगढ़ को अतिक्रमण मुक्त बनाने के लिए नगर निगम शहर की विभिन्न मार्केट्स और इलाकों में कार्रवाई कर रहा है। शहर के सेक्टरों की मुख्य मार्केट्स से नगर निगम का अतिक्रमण हटाओ दस्ता रेहड़ी फड़ी वालों हटाता है, लेकिन ये रेहड़ी फड़ी वाले गांवों को अपना अड्डा बना रहे हैं। चंडीगढ़ के जितने भी गांव हैं वहां रेहड़ी फड़ी वालों ने कब्जा कर लिया है। शाम के समय तो सड़क किनारे इन रेहड़ी फड़ी वालों की अच्छी खासी मार्केट सज जाती है, जिससे वहां से गुजरने वाले वाहन चालकों के साथ स्थानीय लोगों को भी परेशानी होती है। 

चंडीगढ़ के गांव खुड्डा लाहौरा, रामदरबार, बहलाना, रायपुर खुर्द और रायपुर कलां में रेहड़ी फड़ी वालों का कब्जा हो चुका है। शाम ढलते ही शहर के गांवों में रेहड़ी-फड़ी वालों की भरमार लग जाती है। दूसरे जगहों से आकर ये रहड़ी फड़ी वाले गावों में अपनी दुकानें सजा लेते हैं।

शाम छह बजे के बाद लग जाता है जाम

खुड्डा लाहौरा के स्थानीय निवासी मनप्रीत सिंह ने बताया कि दिन ढलने के बाद रेहड़ी-फड़ी वाले गावं की मुख्य सड़क पर डेरा जमा लेते हैं। सड़क के दोनों तरफ इतनी रेहड़ियां लगती हैं वहां से एक साथ दो गड़ियां क्रास नहीं हो सकती है। इसी तरह से उस समय में बच्चों और महिलाओं और बुजुर्गों को पैदल चलने में भी परेशानी होती है। क्योंकि इन रेहड़ी फड़ी वालों की वजह से जाम की स्थिति बन जाती है। 

दुकानदारों का कारोबार हो रहा प्रभावित

खुड्डा लाहौरा के स्थानीय दुकानदार रवि ने बताया कि शाम के समय लगने वाली रेहड़ी फड़ी वाले हमारे कारोबार को भी प्रभावित कर रहे हैं। गर्मी होने के चलते ग्राहक शाम को बाजार में आते हैं, लेकिन उस समय उन्हें गाड़ी पार्क करने की जगह नहीं मिलती। क्योंकि जहां भी खाली जगह होती है वहां ये लोग अपनी रेहड़ी लगा लेते हैं। ऐसे में ग्राहक दुकान में आने से परहेज करते हैं, जिससे स्थानीय दुकानदारों के कारोबार पर असर पड़ रहा है।

----

"शहर में किसी प्रकार का अतिक्रमण सहन नहीं होगा। नगर निगम के दायरे में आने वाले गांवों अतिक्रमण करने वालों पर भी कार्रवाई होगी।

                                                                        -रूपेश कुमार, अतिरिक्त कमिश्नर नगर निगम चंडीगढ़

Edited By: Ankesh Thakur