कुलदीप शुक्ला, चंडीगढ़ : जम्मू से पीजीआइ में इलाज करवाने आई 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला ने सोमवार सुबह सोने के दोनों कंगन कटर से काटने वाली एक आरोपित महिला को बहादूरी दिखाते हुए दबोच लिया। जबकि उसकी दोनों सहयोगी महिलाएं फरार हो गई। बुजुर्ग महिला की आवाज सुनकर जुटी पब्लिक की सूचना पर पहुंची सेक्टर-11 थाना और पीजीआइ चौकी पुलिस दोनों को थाने लेकर गई। वहां महिला को दोनों कंगन वापस देकर भेज दिया और देर शाम आरोपित महिला को भी छोड़ दिया। रात में एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस मामले में शिकायत नहीं मिलने के कारण कार्रवाई नहीं की गई। 65 वर्षीय सुनीता अरोड़ा ने बताया कि वह जम्मू स्थित ग्रेटर कैलाश की रहने वाली है। सोमवार दोपहर पंचकूला में रहने वाली अपनी बहन के घर जाने के लिए ऑटो पकड़ लिया। ऑटो में अंदर घुसने से पहले ही एक महिला कूदकर बैठकर पैर से रास्ता रोकने लगी। इसी दौरान दो महिलाओं ने उन्हें पीछे से धक्का देना शुरू कर दिया। इस मौके का फायदा उठाकर आरोपित महिलाओं ने उसने दाएं हाथ से सोने के दो कंगन कटर से काट लिया। कटर से घायल पर एक को दबोचा

बुजुर्ग सुनीता अरोड़ा ने बताया कि धक्कामुक्की में कटर उनके दाएं हाथ में लगने से खून गिरने लगा। हाथ में तेज दर्द होने से उन्होंने देखा कि चोट के साथ उसके सोने के दोनों कंगन भी गायब थे। शोर मचाने पर ऑटो के बाहर से उन्हें धक्का देने वाली दोनों महिलाएं भाग गई। जबकि, ऑटो में बैठी महिला भी बाहर निकलकर भागने लगी। जिसे उन्होंने तुरंत दूसरी साइड से निकलकर दबोचकर पब्लिक के हवाले कर दिया। इस बीच पुलिस में सूचना पाकर पहुंच गई थी। पीजीआइ गेट पर पहले भी हुई वारदात

- 29 मई 2018 को खरड़ से पीजीआइ आने वाली महिला शीला के साथ धक्कामुक्की कर दो महिलाओं ने सोने के कंगन चोरी कर लिए थे।

- जुलाई 2015 को पीजीआइ में करनाल से इलाज के लिए आई महिला शशि के हाथ से तीन महिलाएं सोने का कंगन काटकर ले गई थी। महिला की शिकायत पर गिरफ्तार तीनों आरोपित महिलाएं पंजाब के नाभा की रहने वाली थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!