चंडीगढ़, जेएनएन। चंडीगढ़ शिक्षा विभाग ने शहर के स्कूलों में दस मई से गर्मियों की छुट्टियों की घोषणा कर दी है। इसके बाद यूटी कैडर एजुकेशन इंप्लाइज यूनियन ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बैठक की। बैठक में विभिन्न मुद्दाें पर चर्चा हुई और शिक्षा विभाग से उन पर विशेष ध्यान देने की मांग की गई। बैठक में छुट्टियों के दाैरान कोरोना ड्यूटी में लगे शिक्षकों के लिए बीमा करवाने की मांग की गई। ताकि किसी भी प्रकार की आपात स्थिति में बीमा के द्वारा टीचर्स की आर्थिक मदद हो सके।

यूनियन प्रधान स्वर्ण सिंह कंबोज ने कहा कि कोरोना काल में डेढ़ सौ के करीब टीचर्स की ड्यूटी लगी हुई है, जो कि रोस्टर के अनुसार काम कर रहे हैं। इन टीचर्स के परिवार भी हैं, जिन्हें ध्यान में रखते हुए बीमा की सुविधा दी जानी चाहिए। वहीं, इन शिक्षकों के लिए स्पेशल लीव की भी डिमांड पर भी प्लानिंग हुई। बैठक में मौजूद यूनियन सदस्य प्रदीप कुमार ने कहा कि जो टीचर्स ड्यूटी देंगे उनकी छुट्टियां लेप्स हो जाएंगी। विभाग उन टीचर्स को बाद में छुट्टी देने की घोषणा करे। वर्ष 2020 में टीचर्स को छुट्टियों हुई ही नहीं थी। उसमें गर्मियों की छुट्टियों के साथ शनिवार को रविवार को होने वाली छुट्टियां भी रोक दी गई है, जिससे शिक्षकों में रोष था। इस बार सभी टीचर्स को एक समान रखते हुए हर सुविधा मिलनी चाहिए। 

हाउसिंग सोसायटी बनाने और ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई की अपील

बैठक में शिक्षकों के लिए अलग से हाउसिंग सोसायटी बनाने की भी मांग की गई। यह मांग यूनियन पहले भी प्रशासन से कर चुकी है। इसी प्रकार से स्कूलों में ठेकेदारों के जरिये काम कर रहे कर्मचारियों को ठेके से मुक्त करवाकर रेगुलर करने की मांग की गई, ताकि स्कूलों का काम बेहतर तरीके से हो और कर्मचारियों को भी कोई परेशानी न आए। प्रधान स्वर्ण सिंह कंबोज ने बताया कि विभिन्न मुद्दों पर सहमति बनने के बाद इसका प्रार्थना पत्र शिक्षा विभाग में डायरेक्टर स्कूल एजुकेशन, शिक्षा सचिव सहित प्रशासन में सलाहकार को भी दिया जाएगा, ताकि हमारी मांगे जल्द पूरी हो और टीचर्स का फायदा हो सके । 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप