मोहाली, जेएनएन। दो महीने पहले नयागांव क्षेत्र के आदर्श नगर में कुत्ते के एक बच्चे को तीसरी मंजिल से फेंककर मारने का मामला अदालत पहुंच गया। यह पहला केस है जब किसी बेघर कुत्ते की हत्या का मामला कोर्ट पहुंचा है, अन्यथा ऐसे मामले पुलिस थाने से आगे नहीं जा पाते हैं। यही वजह है कि पशु क्रूरता के मामलों की जानकारी लोगों को नहीं हो पाती है। लेकिन इस मामले में जानवरों को बचाने वाली एक प्रमुख संस्था फॉरएवर फ्रेंडस ने न सिर्फ बाकायदा प्रेस कांफ्रेंस कर पुलिस पर मामला दर्ज करने का दबाव बनाया, बल्कि आगे की लड़ाई के लिए वकीलों से कानूनी सलाह ली जा रही है। सुनवाई की अगली तारीख 24 फरवरी है।

पुलिस ने सौंपी पशु चिकित्सक की रिपोर्ट

खरड़ स्थित सेशन कोर्ट में मजिस्ट्रेट अंकिता गुप्ता के समक्ष गवाहों के बयान दर्ज किए गए और पुलिस ने पशु चिकित्सक की रिपोर्ट भी अदालत को सौंपी। आरोपितों पर पशु क्रूरता अधिनियम की धारा-11 के साथ-साथ, गवाहों को जान से मारने की धमकी देने के चलते भारतीय दंड संहिता की धारा 506 भी लगाई गई है। अदालत में आरोपित राम वर्मा के वकील ने गवाहों से सवाल पूछे। आरोपितों के देरी से अदालत पहुंचने के कारण गवाहों को काफी देर तक बैठे रहकर इंतजार करना पड़ा।

लोगों को लड़ाई के लिए डटना चाहिए: लूथरा

फॉरएवर फ्रेंडस फाउंडेशन के संस्थापक विकास लूथरा ने बताया कि वह आगे की कार्रवाई के लिए संस्था से जुड़े वकीलों से कानूनी सलाह ले रहे हैं और इस मामले को अंत तक लेकर जाएंगे। उन्होंने कहा कि कुत्तों को मारने या प्रताड़‍ित करने के मामलों में अकसर लोग पुलिस में रिपोर्ट लिखाकर पल्ला झाड़ लेते हैं और आगे फॉलोअप नहीं करते। ऐसे मामले अंजाम तक नहीं पहुंच पाते हैं जिससे अपराधियों के हौसले बुलंद रहते हैं।

नशे में फेंक दिया था कुत्ता

उल्लेखनीय है कि कुछ युवकों ने नशे की हालत में गत दिसंबर में आदर्श नगर नयागांव के एक मकान की तीसरी मंजिल से कुत्ते को बहुत चोट पहुंचाने के बाद ऊपर से फेंक दिया था। पड़ोस की युवतियों ने जब इस पर आपत्ति की तो आरोपितों ने उनसे दुर्व्यवहार किया था।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Sat Paul

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!