जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : पंजाब यूनिवर्सिटी की पहली ट्रांसजेंडर स्टूडेट धनंजय पर आधारित डॉक्यूमेट्री फिल्म एडमिटिड को अमृतसर में आयोजित बायोस्कोप ग्लोबल फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट डॉक्यूमेट्री का खिताब हासिल हुआ है। फिल्म अभी तक कई फिल्म फेस्टिवल में प्रदर्शित हो चुकी है। फिल्म के निर्देशक ओजस्वी शर्मा ने इस सम्मान को अमृतसर में ग्रहण किया। कैनेडा के हाई कमीशन ने फिल्म को सराहा ये बड़ी कामयाबी..

निर्देशक ओजस्वी शर्मा ने कहा कि फिल्म को हर फेस्टिवल से सकारात्मक रुझान मिला है। फिल्म को जागरण फिल्म फेस्टिवल, मुंबई से लेकर कई नामी फेस्टिवल में मंचित किया जा चुका है। अमृतसर में कनाडा के हाई कमीशन नादिर पटेल ने सराहा, उन्होंने इसे फेसबुक पेज पर लोगों को देखने के लिए प्रेरित किया। मेरे लिए ये सबसे बड़ा सम्मान है। जल्द ही फिल्म को हम देश के सबसे बड़े फिल्म फेस्टिवल गोवा फिल्म फेस्टिवल में प्रदर्शित करेंगे। फिल्म के दौरान ट्रांसजेंडर से जुड़े कई विषय लोगों को समझ में आए और इस दौरान मुझे खुद कई ऐसे लोग मिले, जिन्होंने समझा कि ट्रांसजेंडर को भी आम इंसान की तरह जीने का हक है। ओजस्वी ने कहा कि उम्मीद है कि गोवा फिल्म फेस्टिवल में इसे पॉजिटिव रिस्पॉन्स मिलेगा और विदेश में भी इसको प्रदर्शित कर पाएंगे। ऐसे आया फिल्म बनवाने का विचार..

फिल्म मेकर ओजस्वी ने कहा कि इस फिल्म को बनाने का विचार धनंजय के संघर्ष को देखकर आया। उन्होंने कहा कि फिल्म बनाने से पहले मैंने धनंजय के जीवन के बारे में अच्छे से जाना। उनसे बात की। ऐसे में डॉक्यूमेट्री के तौर पर उनके जीवन में आई कठनाई और फिर भी न हारते हुए बेझिझक अपनी बात सामने रखने की हिम्मत ने मुझे फिल्म बनाने में मजबूर किया।

Posted By: Jagran