जेएनएन, चंडीगढ़। वर्क वीजा दिलवाने के नाम ठगी करने वाली महिला द्वारा रिमांड में अहम खुलासे होने के बाद पुलिस ने नकली मेडिकल सर्टिफिकेट बनाकर देने वाले डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपित डॉक्टर सरवन कुमार सेक्टर-32 स्थित एससीओ नंबर-272 में मेडिनो डायग्नोस्टिक सेंटर चलाता था। मामले में पुलिस ने तीन दिन पहले आरोपित ट्रेवल एजेंट महिला मलकीत कौर उर्फ नीना शर्मा उर्फ शालिनी को गिरफ्तार कर रिमांड पर लिया था। सेक्टर-34 थाना पुलिस ने दोबारा से शनिवार को आरोपित महिला को कोर्ट में पेश कर तीन दिन का रिमांड लिया है। सेक्टर-34 थाना पुलिस की जांच में सामने आया कि आरोपित डॉक्टर बिना परमिशन ट्रेवल एजेंट मलकीत कौर के ग्राहकों को मेडिकल सर्टिफिकेट बनाकर देता था। ताकि उन्हें मलकीत कौर पर भरोसा हो जाए और वह वीजा के पैसे तुरंत जमा कर दे। वहीं, मेडिकल सर्टिफिकेट बनाने के एवज में आरोपित मोटी रकम लेता था। इसके अलावा वह मलकीत कौर से भी कमीशन लेता था। उसकी लैब में विदेश भेजने वाले आवेदकों के मेडिकल करवाने के लिए उचित उपकरण भी नहीं थे। 27 फरवरी को सेक्टर-9 पुलिस हेडक्वार्टर में गंगासुधन, अंकित कुमार व अन्य युवकों ने शिकायत दी थी।

न वीजा दिया और न ही पैसे लौटाए

युवकों ने आरोप लगाया था कि सेक्टर-34 स्थित एससीओ नंबर-364-365 क्वीन ओवरसीज इमिग्रेशन एवं लीगल सर्विसेज की संचालिका को वर्क वीजा के नाम पर पैसे जमा किए थे। लेकिन, तय समय में उन्होंने न वीजा दिया और न ही उनके पैसे वापस किए। प्राथमिक जांच के बाद सेक्टर-34 थाना पुलिस ने 26 मार्च को मलकीत कौर उर्फ नीना शर्मा के खिलाफ केस दर्ज किया था।

महिला के खिलाफ कई राज्यों में दर्ज हैं 48 केस

एएसपी साउथ नेहा यादव के नेतृत्व में सेक्टर-34 थाना प्रभारी बलदेव ङ्क्षसह ने एक अप्रैल को उसे अंबाला से गिरफ्तार कर लिया था। आरोपित महिला ने चंडीगढ़ में कुल 7 लोगों से 26.50 लाख की ठगी की है। महिला के खिलाफ विभिन्न राज्यों में कुल 48 केस दर्ज हैं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sat Paul

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!