जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। भारतीय वायु सेना के सहयोग से चंडीगढ़ प्रशासन देश का दूसरा और सबसे खास भारतीय वायु सेना हेरिटेज सेंटर स्थापित करने जा रहा है। 16 दिसंबर को सेक्टर-18 गवर्नमेंट प्रेस बिल्डिंग में हेरिटेज सेंटर का उद्घाटन रक्षामंत्री राजनाथ सिंह करेंगे। इस मौके पर भारतीय वायु सेना प्रमुख चीफ मार्शल वीआर चौधरी सहित वायु सेना के सभी बड़े अधिकारी भी हिस्सा लेंगे।

हेरिटेज सेंटर भारतीय वायुसेना के पराक्रम से जुड़ी यादों को नई पीढ़ी के साथ साझा करेगा। दिल्ली पालम में भी भारतीय वायु सेना का इससे पहले हेरिटेज सेंटर है।

चंडीगढ़ का हेरिटेज सेंटर कई मायनों में खास होगा। भारत-पाक 1971 जंग में प्रयोग हुए एयरफोर्स के लड़ाकू विमान के अलावा यहां वायु सेना की खास पहचान मिग-21, मिग-23 और 1958 में बने कानपुर-1 विटेंज प्रोटोटाइप विमान भी इस हेरिटेज सेंटर में रखा जाएगा।

पेक ने वायु सेना को सौंपा कानपुर-1 विंटेज प्रोटोटाइप विमान

चंडीगढ़ प्रशासन और भारतीय वायु सेना के सहयोग से चंडीगढ़ में बनने वाले इंडियन एयर फोर्स हेरिटेज सेंटर में चुनिंदा एयरक्राफ्ट को रखा जाएगा। सोमवार को पंजाब इंजीनियरिंग कालेज (पेक) के एयरोनाटाकिल विभाग में स्व. एयर वाइस मार्शल हरजिंदर सिंह वीएसएम-1, एमबीई का 1958 में डिजाइन और निर्मित "एयर फोर्स कानपुर-1" विंटेज प्रोटोटाइप एयरक्राफ्ट को हेरिटेज सेंटर में रखने के लिए सौंप दिया गया।

पेक एलुमनी रहे हरजिंदर सिंह 

पेक में आयोजित कार्यक्रम में पेक के डायरेक्टर प्रो. बलदेव सेतिया और एयर मार्शल आर राधीश एवीएसएम के बीच एमओयू साइन हुआ। इस मौके पर वायु सेना से एवीएम एसएस ढिल्लों, एवीएम पीपीएस काहलों, विंग कमांडर एचडी तलवार, विंग कमांडर एसएस विरदी, विंग कमांडर आरसी चौधरी, विंग कमांडर एनके कोहली भी उपस्थित थे। हरजिंदर सिंह पेक के ही एलुमनी रहे थे। एयर मार्शल आर राधीश ने कहा कि भविष्य में एयर फोर्स पेक के युवाओं के लिए हरसंभव मदद करेगा। पेक को भारतीय वायु सेना पुराने एयरक्राफ्ट मशीन देने पर भी विचार करेगा। इस मौके पर पेक से 1964 में एयरफोर्स ज्वाइन करने वाले 17 पेक स्टूडेंट्स से जुड़ी बुकलेट भी रिलीज की गई। पेक के डायरेक्टर बलदेव सेतिया ने कहा कि हेरिटेज सेंटर में एयर फोर्स कानपुर-1 एयरक्राफ्ट को रखने से इसे अधिक लोगों को देखने और इसके बारे में जानने का मौका मिलेगा।

हेरिटेज सेंटर में वायु सेना के बहादुरों का लगेगा स्टेच्यू

चंडीगढ़ में तैयार हो रहे आइएएफ हेरेटिज सेंटर में शुरुआती दौर में छह एयरक्राफ्ट रखे जाएंगे। यह सेंटर आधुनिक तकनीक से तैयार किया जाएगा। वर्ल्ड वार-2 से लेकर 1971 जंग में प्रयोग एयरक्राफ्ट सेंटर में देखने को मिलेंगे। अंतरिक्ष में देश का परचम लहराने वाले विंग कमांडर राकेश शर्मा, एयर कमाडोर मेहर, स्वर्गीय एयर वाइस मार्शल हरजिंदर सिंह और बालाकोट एयर स्ट्राइक के हीरो अभिनंदन सहित एयर फोर्स के नौ बहादुरों के स्टेच्यू भी हेरिटेज सेंटर में लगाए जाएंगे। स्कूल के बच्चों और युवाओं को ध्यान में रखकर सेंटर को तैयार किया जा रहा है। भारतीय वायु सेना की बहादुरी से जुड़े 15 मिनट की एक डाक्यूमेंट्री भी सेंटर में देखने को मिलेगी। वायु सेना के विभिन्न युद्ध में तैयार किए गए हथियारों को भी यहां रखा जाएगा।

Edited By: Ankesh Thakur

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट