चंडीगढ़,  [विकास शर्मा]। जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया का सिडनी और इंग्लैंड का एजबेस्टन क्रिकेट मैदान है, उसी तर्ज पर अब मैं डीएवी कॉलेज-10 के क्रिकेट मैदान को तैयार करवा रहा हूं। इस मैदान में ऐसी घास लगाए जाएगी, जोकि सालभर हरी रहेगी। यह कहना है कि पूर्व क्रिकेटर योगराज सिंह का। सिक्सर किंग युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह इसी कॉलेज ग्राउंड में डीएवी क्रिकेट अकादमी में कोचिंग देते हैं। योगराज बताते हैं कि उन्होंने अपने जीवन के 40 इसी ग्राउंड में बताए हैं, पहले बतौर क्रिकेटर खेले, फिर बतौर कोचिंग देते हुए दुनिया को युवी जैसा बेस्ट ऑलराउंडर दिया।

मास्टर प्लान में रहकर ही दी जाएगी मैदान को नई लुक

योगराज सिंह ने बताया कि चंडीगढ़ में मास्टर प्लान के तहत ही निर्माण किया जा सकता है। ऐसे में हम मैदान को नई लुक देने के लिए के लिए किसी तरह की कंक्रीट का निर्माण तो नहीं करेंगे, लेकिन इसकी लुक जरूर विदेशी मैदानों जैसी बना देंगे। हरी घास के साथ मैदान को छोर को ढलान का रूप दिया जाएगा, ताकि स्टूडेंट्स व लोग मैदान के बाहर धूप सेंकते हुए खेल का आनंद उठा सकें और उन्हें विदेशी मैदान में बैठे होने का अहसास हो।

मैदान में ही बनाएंगे क्रिकेट म्यूजियम

योगराज सिंह बताते हैं कि एक क्रिकेट म्यूजियम बनाने की योजना है। जिसमें उन क्रिकेटर्स की यादों को संजोया जाएगा। जिन्होंने क्रिकेट में अपनी अमिट छाप छोड़ी है। गौरतलब है कि डीएवी कॉलेज-10 से व‌र्ल्ड कप विजेता टीम के कप्तान कपिल देव, सिक्सर किंग युवराज सिंह, दिनेश मोंगिया, योगराज सिंह, अशोक मल्होत्रा और चेतन शर्मा जैसे क्रिकेटर निकले हैं। इसके अलावा 400 से ज्यादा क्रिकेटर्स रणजी मैच खेल चुके हैं। डीएवी कॉलेज की टीम ने पहली बार 1977 में दिल्ली को हराकर ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी का खिताब जीता था।

योगराज बताते हैं कि इसी दौरान उन्होंने बीसीसीआइ रिकॉर्ड बनाया था, जो अभी तक कायम है। उन्होंने मेरठ यूनिवर्सिटी के खिलाफ एक मैच में तीन रन देकर सात विकेट लिए थे। डीएवी कॉलेज है क्रिकेटर्स के लिए मक्का मदीना डीएवी कॉलेज क्रिकेट अकादमी में खिलाड़ियों को इंटरनेशनल स्तर की कोचिंग दी जाती है। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, जम्मू -कश्मीर समेत कई राज्यों के युवा क्रिकेटर केवल इसीलिए डीएवी कॉलेज -10 में एडमिशन लेते हैं, क्योंकि उन्हें जहां पर क्रिकेट में करियर बनाने के बेहतर अवसर मिलते हैं। अकादमी में अभी योगराज सिंह और उनसे पहले पूर्व क्रिकेटर दिनेश मोंगिया खिलाड़ियों को कोचिंग देते थे। इसके अलावा फिटनेस व एक्सरसाइज के लिए बेहद अनुभवी को¨चग स्टाफ है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!