चंडीगढ़ [कुलदीप शुक्ला]। साइबर क्रिमिनल ने शहर के एसएसपी कुलदीप सिंह चहल की नकली फेसबुक आईडी बनाकर पैसे मांग रहे है। हैकर मदद के नाम पर चहल के फ्रेंड लिस्ट में शामिल उनके ही जानकार लोगों से अलग-अलग बहाने बनाकर थोड़े-थोड़े अमाउंट में पैसे मांग रहे हैं। इसकी जानकारी मिलने पर तत्काल प्रभाव से चंडीगढ़ पुलिस हैकर को दबोच ने में लग गई है। इससे पहले चंडीगढ़ पुलिस के डीएसपी, पूर्व एसपी, इंस्पेक्टर सहित दूसरे मुलाजिमों की भी नकली आईडी बन चुकी हैं। साइबर क्राइम करने वाले अपराधी एसएसपी कुलदीप की आइडी तक पहुंच गए। उन्हें पुलिस विभाग का जरा भी डर नजर नहीं आ रहा है। तभी तो आरोपितों ने एसएसपी के नाम पर लोगों से पैसे ऐंठने की प्लानिंग शुरू कर दी।

पूर्व एसपी, डीएसपी सहित इन पुलिस अधिकारियों के साथ वारदात

पूर्व एसपी रोशन लाल ने बताया कि दोपहर उनके किसी जानकार का काल आया कि आपने मैसेंजर के थ्रू 15 हजार रुपये की डिमांड की है। जिसके बाद उन्होंने तुरंत अपनी दूसरी बनी आइडी को चेक किया और साइबर सेल में तत्काल शिकायत कर दी। इसके अलावा एसपी रोशनलाल ने सोशल मीडिया के माध्यम से जुड़े अपने लोगों को धोखाधड़ी की कोशिश करने की जानकारी भी अपने लोगों को दे दी। इससे पहले पूर्व डीएसपी क्राइम की सोशल मीडिया से फोटो चोरी कर हैकर ने नकली फेसबुक आइडी बना ली। जिसके बाद फ्रेंड लिस्ट में शामिल दोस्तों को मैसेज और रिक्वेस्ट भेजकर मदद के बहाने पैसे मांगने लगा। पूर्व डीएसपी क्राइम जगबीर सिंह को अपनी नकली फेसबुक आइडी बनाकर पैसे मांगने की जानकारी मिली। आरोपित साधारण हालचाल पूछने के बाद अलग-अलग तरह मजबूरी बताकर तत्काल पैसे ट्रांसफर करने की बात करने लगता है।

मेयर, बीजेपी अध्यक्ष सहित वकील भी शिकार

चंडीगढ़ में साइबर क्रिमिनल पूरी तरह से सक्रिय हैं। पुलिस विभाग में आला अधिकारियों के साथ चंडीगढ़ भाजपा के अध्यक्ष अरुण सूद, मेयर रविकांत शर्मा सहित वकील और कई प्रिंसिपल की भी नकली आइडी बनाकर हैकर पैसे और ऐंठने की कोशिश कर चुके हैं। हालाकि, अभी तक किसी भी मामले में आरोपित तक पहुंचने में असफल रही पुलिस अब मुखिया के नाम पर ठगी की कोशिश में कब तक आरोपित दबोचती हैं। यह एक बड़ा सवाल खड़ा हो चुका है।

 

Edited By: Vinay Kumar