जेएनएन, चंडीगढ़। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्टार स्पिनर टर्बिनेटर हरभजन सिंह कांग्रेस में शामिल होने की चर्चा पर फिलहाल विराम लग गया है। कांग्रेस में शामिल होने और जालंधर से विधानसभा चुनाव लड़ने की खबरें फैलने के बाद हरभजन सामने आए अौर उन्होंने इससे साफ इन्कार किया। हरभजन ने कहा है कि उनका अभी राजनीति में आने का कोई इरादा नहीं है। उन्हाेंने इस बारे में चल रही चर्चाओं का अफवाह करार दिया। उन्होंने कहा कि अभी तीन-चार साल क्रिकेट खेलने का लक्ष्य है और इसके बाद ही इस बारे में साेचूंगा।

इससे पहले वीरवार सुबह से यह चर्चा चल रही थी कि हरभजन सिंह कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं और जालंधर से विधानसभा चुनाव में जालंधर से काग्रेस टिकट पर मैदान में उतर सकते हैं। यह भी बताया जा रहा था कि वह नवजोत सिंह सिद्धू के साथ नई दिल्ली में कांग्रेस में शामिल होंगे। कहा गया कि यदि एेसा हुआ तो यह कांग्रेस का पंजाब में मास्टर स्ट्रोक होगा।

कांग्रेस में शामिल होने और जालंधर से चुनाव लड़ने की चर्चा से गर्मायी पंजाब की राजनीति

हरभजन सिंह ने कहा है कि उनकी अभी राजनीति में आने की मंशा नहीं है। इस मामले में उनको कोई जल्दी नहीं है। इसीलिए सभी से आग्रह है कि इस तरह की अफवाह न उड़ाएं अौर इस तरह ही चर्चाओं को तुरंत रोक दें। हरभजन ने कहा है कि अभी वह सक्रिय क्रिकेट में हूं और अभी मेरा इसी पर ध्यान है। फिलहाल मेरा लक्ष्य तीन-चार साल क्रिकेट खेलने का है और इसके बाद ही इस बारे में सोचूंगा।

उन्होंने एक बातचीत में स्वीकार किया कि उनकी सात-आठ महीने पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह से बात हुई थी, उन्होंने इस बारे में पूछा था तो उनको बता दिया था के वह अभी इस तरह की जिम्मेदारी के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा कि कई बड़े नेताओं से भी उनकी बातचीत हुई थी, इनमेें कांग्रेस के अलावा अन्य दलों के नेता भी शामिल हैं।

हरभजन ने कहा, ' मेरा किसी पार्टी में शामिल हाेने का कोई इरादा नहीं है। इस बारे में सभी नेताओं का मैंने साफ बता दिया था। क्रिकेट से रिटायर होने के बाद ही मैं राजनीति के बारे में सोचूंगा।' हरभजन ने इस संबंध में ट्वीट कर राजनीति में जाने का खंडन किया है।

I have no intentions of joining politics any time soon. Please stop spreading rumors.

हरभजन के इस इन्कार के बावजूद पंजाब में इससे राजनीति गर्मा गई है। नवजोत सिंह सिद्धू की कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से दो दिन पहले हुई मुलाकात के बाद अचानक यह बात सामने आने कांग्रेस सहित सभी दलों में हलचल बढ़ गई है। चर्चाओं में बताया गया कि हरभजन की कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं से बातचीत भी हुई है।

कैप्टन अमरिंदर के बयान से चर्चा को मिला बल

दरअसल, हरभजन के कांग्रेस में आने की चर्चा को बुधवार को नई दिल्ली मेें पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह के बयान के बाद बल मिला। हरभजन के कांग्रेस में शामिल होने के बारे में पूछे जाने पर कैप्टन अमरिंदर ने कहा, हरभजन का कांग्रेस में स्वागत है। अगर वह कांग्रेस में आते हैं तो हमें बेहद खुशी होगी।'

पढ़ें : कांग्रेस में दलबदलुओं को टिकट पर फंसा पेंच, उलझे अमरिंदर व गहलोत

दूसरी ओर, यह भी चर्चा चल रही है कि हरभजन को कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा खाली हुए अमृतसर लोकसभा सीट से उम्मीदवार हो सकते हैं। इस संबंध में पूछे गए सवाल के जवाब में कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि इस बारे में पार्टी नेतृत्व तय करेगा।

पढ़ें : आज जारी हो सकती है कांग्रेस की दूसरी सूची, कई विधायकों का टिकट कटना तय

राजनीतिक क्षेत्रों में चर्चा थी कि हरभजन को कांग्रेस में शामिल कराने की कोश्ािश राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पहल पर शुरू हुई। कहा यह भी जा रहा है कि हरभजन सिंह मामले में नवजोत सिंह सिद्धू की भी भूमिका हो सकती है, लेकिन हरभजन के खंडन के बाद इस पर फिलहाल विराम लग गया है।

पढ़ें : चंडीगढ़ के नतीजे से पंजाब विस चुनाव में नोटबंदी बनेगी प्रमुख मुद्दा

दूसरी आेर, कांग्रेस को भरोसा है कि यदि भज्जी पार्टी में शामिल होते तो वह युवाआें काे अपने साथ आसानी से जोड़ सकेगी। सिद्धू और हरभजन के आने के बाद कांग्रेस को चुनाव अभियान में नया जाेश आने की उम्मीद है।

चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव के नतीजों से चेती भाजपा

चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए नए सिरे से रणनीति बनानी शुरू कर दी है। हरभजन को कांग्रेस में लाना इसी रणनीति का हिस्सा समझा जा रहा है। नोटबंदी के कारण बने माहौल के मद्देनजर पार्टी सचेत हो गई है। पार्टी चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव के नतीजों के बाद विधानसभा चुनाव के लिए अपनी तैयारी में कोई काेर-कसर नहीं रखना चाहती है।

पढ़ें : पंजाब की सियासत में बदलाव के संकेत, सिद्धू विस चुनाव लड़ने को तैयार

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!