जेएनएन, चंडीगढ़। Coronavirus का खौफ पूरे देश में है। कोरोना वायरस के बढ़े केसों को देखते हुए पंजाब सरकार ने पूरे राज्य में कर्फ्यू लगा रखा है। पंजाब में अभी तक 31 कोरोना वायरस पाजिटिव केस सामने आ चुके हैंं। इस खौफ भरे माहौल में यह अच्छी खबर है कि कोरोना वायरस मरीजों की स्थिति अंडर कंट्रोल है। चूंकि अभी तक जितने भी केस सामने आए हैंं। उन सभी की उम्र 32 से 50 साल के बीच में है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग को उम्मीद है कि सभी मरीज जल्द ही अपने अंदर के इम्यून सिस्टम की वजह से स्वस्थ्य हो जाएंगे।

मंगलवार को जहां कोरोना वायरस के 6 केस सामने आए थे, जबकि बुधवार को 2 केस सामने आए। एक होशियारपुर में और दूसरा लुधियाना में। स्वास्थ्य विभाग के लिए राहत वाली बात यह है कि 30 कोरोना वायरस से प्रभावित मरीजों का स्वास्थ्य स्थिर है। वहीं, कोरोना वायरस का चक्र तोड़ने के लिए भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा की हो, लेकिन पंजाब सरकार ने इससे पहले ही राज्य में कर्फ्यू लगा दिया था।

पंजाब में इन दिनों 90,000 एनआरआइ आए हुए हैंं। यह ही प्रशासन के लिए सबसे अधिक चिंता का विषय है, क्योंकि अभी तक जो भी कोरोना के केस सामने आए हैंं वह सभी किसी न किसी कोरोना मरीज के संपर्क में आने की वजह से हुआ है। जिसे देखते हुए सरकार ने 30,000 लोगों को घर में ही आइसोलेट किया है।

स्वास्थ्य विभाग मान रहा है कि लोगों में जिस प्रकार से जागरूकता आई है और लोग विदेश से आए लोगों की जानकारी देने के लिए आगे आए हैंं। जल्द ही कोरोना के खिलाफ शुरू हुई लड़ाई के सकारात्मक असर देखने को मिलेंगे। स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिद्धू का कहना है, स्थिति भले ही चिंताजनक हो, लेकिन राहत देने वाली बात यह है कि अभी तक कोरोना प्रभावित सभी मरीजों की स्थिति कंट्रोल में है। यह एक बड़ी लड़ाई है। जिसे सबको मिल कर लड़ना है। जागरूकता और बचाव से ही इस वायरस को खत्म किया जा सकता है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!