जेएनएन, चंडीगढ़। Coronavirus India Lockdown: लॉकडाउन के कारण महाराष्ट्र स्थ्ति नांदेड़ साहिब में पंजाब के 2000 से अधिक श्रद्धालु फंस गए हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार और महाराष्ट्र सरकार को श्रद्धालुओं की वापसी के लिए तत्काल प्रबंध करने की अपील की है।  मुख्यमंत्री ने इस संबंध में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है। महाराष्ट्र सरकार ने जवाब में भरोसा दिया है कि वहां फंसे श्रद्धालुओं की मदद के लिए अपेक्षित प्रबंध किए जाएंगे।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय ने पंजाब के मुख्यमंत्री कार्यालय को सूचित किया है कि इस संबंध में बनते कदम उठाए जा रहे हैं। इसी दौरान महाराष्ट्र के पर्यटन, पर्यावरण और प्रोटोकोल मंत्री आदित्य ठाकरे ने इस मुद्दे पर कैप्टन के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा, ‘‘धन्यवाद सर, इस मामले को देखेंगे और अपेक्षित मदद करेंगे।’’ मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया था, ‘‘गुरुद्वारा श्री नांदेड़ साहिब में फंसे श्रद्धालुओं को वापस लाने में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को पत्र लिखे हैं। श्रद्धालुु लंबे समय से यहां फंसे हुए हैं और इनको अपने घरों और परिवारों के पास सुरक्षित ले जाना हमारा फर्ज है।’'

केंद्रीय गृह मंत्री और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को लिखे अलग-अलग पत्रों में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पंजाब से यह श्रद्धालु महाराष्ट्र में नांदेड़ में स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री हजूर साहिब के दर्शन के लिए गए थे। कैप्टन ने लिखा कि कोविड -19 के कारण पिछले कुछ दिनों से ट्रेनें रद होने और बीते दिन आधी रात से लॉकडाउन होने सेे केंद्र सरकार की विशेष मंज़ूरी के बिना इनके पंजाब आने की कोई संभावना नहीं है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य सरकार रेल मंत्रालय के पास पहले ही यह मसला उठाकर इन श्रद्धालुओं को वहां से वापस लाने के लिए विशेष ट्रेनें चलाने की इजाजत देने की मांग कर चुका है। उन्होंने लिखा कि पंजाब सरकार के अधिकारी नांदेड़ के जि़ला प्रशासन के साथ लगातार संपर्क में हैं, जिससे श्रद्धालुओं के रहन-सहन के उचित प्रबंध किए जा सकें। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!