सुमेश ठाकुर, चंडीगढ़। चंडीगढ़ शिक्षा विभाग के कारनामे स्टूडेंट्स ही नहीं बल्कि टीचर्स भी परेशान हैं। शिक्षा विभाग के ढीले रवैए के चलते नौकरी खोने वाले कंप्यूटर टीचर्स और इंस्ट्रक्टर को 17 महीने बाद नए कांट्रेक्टर ने  ज्वाइन करने की अनुमति तो दे दी है, लेकिन अब विभाग ने फाइल में उलझा गया है। इसके चलते कंप्यूटर टीचर और इंस्ट्रक्टर बीते तीन दिन से ज्वाइनिंग के लिए एक से दूसरे दफ्तर के चक्कर काट रहे हैं। नियुक्ति की उम्मीद में कंप्यूटर टीचर्स और इंस्ट्रक्टर कभी स्कूल, कभी सेक्टर-19 स्थित जिला शिक्षा अधिकारी तो कभी डायरेक्टर स्कूल एजुकेशन के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन पेमेंट की फाइल पूरी न होने के चलते शिक्षक परेशान हो रहे हैं। दरअसल जेम पोर्टल के नए कांट्रैक्टर ने इन 54 कंप्यूटर टीचर्स को 18 मई को ज्वाइनिंग के लिए कहा था, लेकिन तीन दिन बीत जाने के बावजूद ये शिक्षक ज्वाइन नहीं कर पाए हैं।

पुराने कांट्रैक्टर को शिक्षकों ने नहीं दिए इसलिए नौकरी से निकाला

अक्टूबर 2020 में जेम पोर्टल के जरिए काम करने के लिए नियुक्त किए गए कांट्रैक्टर अखिलेश शर्मा को नौकरी पर बने रहने के लिए पैसे न देने के कारण 54 कंप्यूटर टीचर्स को नौकरी से निकाल दिया गया था। लंबे समय तक कानूनी लड़ाई करने के बाद शिक्षकों को विभाग ने ज्वाइन नहीं कराया, लेकिन कोरोना महामारी के बाद जैसे ही सरकारी स्कूलों में आफलाइन पढ़ाई शुरू हुई तो मार्च 2022 में जेम पोर्टल के जरिए नियुक्त किए नए कांट्रैक्टर संजीव को टीचर्स को ज्वाइन कराने की अपील की। कांट्रैक्टर संजीव ने समझौता करके 18 मई को सभी शिक्षकों को स्कूल में ज्वाइन करने की अनुमति दे दी, लेकिन विभाग सैलरी और स्टेशन (स्कूल) को लेकर उलझ गया है और तीन दिन ने शिक्षक एक से दूसरे आफिस में ज्वाइनिंग के लिए धक्के खा रहे है।

----

"तकनीकी खामियों के चलते फाइल में दिक्कत हुई है। जल्द ही उसे क्लियर करके शिक्षकों और इंस्ट्रक्टरों को स्कूलों में ज्वाइन कराया जाएगा।

                                                                                         -प्रभजोत कौर, जिला शिक्षा अधिकारी

Edited By: Ankesh Thakur