जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। वायु सेना दिवस के मौके पर चंडीगढ़ में 8 अक्टूबर को एयर शो होने जा रहा है। एयर शो में कुल 12 से 15 घंटे का समय बचा है। लेकिन इससे पहले मौसम ने करवट बदल ली है। ऐसे में एयरफोर्स डे पर होने वाले एयर शो में बारिश खलल डाल सकती है।

मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि आज और कल को उत्तर भारत में बारिश के आसार हैं। बंगाल की खाड़ी में कम हवा दबाव (लो प्रेशर सिस्टम) बन रहा है, इसी दबाव की वजह से बारिश की संभावना बन रही हैं। इस हफ्ते उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश और जम्मू एंड कश्मीर में बादल व बारिश के आसार हैं।

इससे पहले 6 अक्टूबर को सुखना लेक पर एयर शो की फुल रिहर्सल की गई। इस शो को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे। वहीं 8 अक्टूबर को होने वाले मुख्य कार्यक्रम के लिए सभी टिकट बुक हो चुकी हैं। अगर ऐसे में मौसम खराब हुआ तो लोगों को निराश होना पड़ सकता है। 

शो के लिए एयर फोर्स और चंडीगढ़ प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर ली है। इस फ्लाईपास्ट शो में राफेल, एसयू - 30, मिराज 2000, सुखोई, मिग 21 व 29 जैसे लड़ाकू विमानों के साथ एरोबेटिक डिसप्ले टीम सूर्यकिरण और सांरग भी अपनी प्रस्तुति देंगे। 

बीते साल भी मौसम ने डाला था खलल

इससे पहले पिछले साल 22 सितंबर को 1971 युद्ध के स्वर्णिम विजय दिवस पर भी सुखना लेक पर खास एयर शो का आयोजन किया गया था। इस दौरान भी लोगों का उत्साह देखते ही बन रहा था। खराब मौसम और बादलों के अत्यंत नीचे होने की वजह से भी इस एयर शो में भी खलल पड़ा था। लोग निराश न हो इसलिए एयर फोर्स के जांबाज सैनिकों ने चिनूक और रफाल की रफ्तार दिखाई थी। सूर्य किरण शो भी लोगों को खूब पसंद आया, लेकिन यह सिर्फ झलकी मात्र था। शनिवार को होने वाले इस एयर शो के प्रति क्रेज का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि एयर शो को देखने के लिए पंजाब के गवर्नर व यूटी प्रशासक बनवारी लाल पुरोहित, हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर खासतौर पर सुखना लेक पर पहुंचेंगे।

इसलिए चंडीगढ़ में हो रहा एयर शो

सुरक्षा कारणों की वजह से इस फ्लाईफास्ट का आयोजन चंडीगढ़ एयरबेस की बजाय सुखना लेक पर होगा, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसको देखने का लुत्फ उठा सकें। चंडीगढ़ में एयरफोर्स का सबसे बड़ा ट्रांसपोर्ट बेस है। इसी बेस से रोजाना कई मालवाहक जहाज जम्मू -कश्मीर व लेह लद्दाख के लिए रसद व अन्य सामान लेकर उड़ान भरते हैं। इसके अलावा थ्री बीआरडी स्टेशन में लड़ाकू विमानों की सर्विस व उन्हें जरूरत के हिसाब से हाईटेक किया जाता है। चंडीगढ़ के साथ लगते अंबाला एयरफोर्स स्टेशन में बड़ा फाइटर प्लेन का बेस है। इसी सेंटर रफाल जैसे लड़ाकू विमान रखे गए हैं। यही वजह है कि हिंडेन एयरफोर्स स्टेशन की जगह चंडीगढ़ एयरफोर्स स्टेशन को इस बड़े आयोजन के लिए तरजीह दी गई है। इसके अलावा एनसीआर एऱिया में ज्यादा एय़र ट्रैफिक होना भी एक बड़ी वजह हो सकता है।

Edited By: Ankesh Thakur

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट