कुलदीप शुक्ला, चंडीगढ़। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के आफिस में तैनात क्लर्क को वाट्सअप पर गोपनीय फाइलें लीक करने के मामले में चंडीगढ़ पुलिस ने शुक्रवार शाम को गिरफ्तार कर लिया। विज के संज्ञान में आने के बाद आफिस की तरफ से एसएसपी कुलदीप सिंह चहल को शिकायत दी। तत्काल प्रभाव से सेक्टर-3 थाना पुलिस ने आरोपित क्लर्क कपिल को धारा अमानत में खयानत (409) के तहत गिरफ्तार कर लिया। आरोपित को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन के रिमांड पर भेज दिया गया।

गृहमंत्री आफिस में तैनात कपिल को गोपनीय फाइल लीक करता रंगे हाथों पकड़ा गया है। मामला गृह मंत्री के संज्ञान में आने के बाद चंडीगढ़ पुलिस अधिकारियों को काल किया गया। सूत्रों के अनुसार आरोपित कपिल आफिस में सबसे गोपनीय मामले की फाइलें डील करता था। इससे साफ होता है कि आरोपित क्लर्क बड़े मामलों में गृहमंत्री सहित अन्य अधिकारियों को अंधेरे में रख फाइलें लीक करने का काम करता था।

हर विभाग की अहम फाइलों की फोटो मोबाइल में मिली

यह मामला बेहद ही गंभीर है। विज के अंडर होम, हेल्थ और अर्बन लोकल बाडी समेत सात बड़े विभाग हैं। इस तरह की जानकारी मिलने पर अनिल विज ने खुद ही चंडीगढ़ पुलिस अधिकारियों को काल कर सख्त कार्रवाई करने को कहा है। सूत्रों के अनुसार विज ने खुद आरोपित कपिल का मोबाइल लेकर चेक किया। उन्होंने देखा कि आरोपित के मोबाइल में हर विभाग की बेहद महत्वपूर्ण फाइल की फोटो थी। आरोपित के मोबाइल फोन में विज के अंडर में आने वाले विभिन्न विभागों से संबंधित 100 से ज्यादा फाइलों की फोटो बरामद हुई हैं। विज के अंडर होम, हेल्थ और अर्बन लोकल बाडी समेत सात बड़े विभाग हैं। आरोपित की काल, मैसेज, वाट्सऐप सहित अन्य डिटेल्स की जांच व रिकवरी के लिए पुलिस ने उसका मोबाइल फॉरेंसिक विभाग को जांच के लिए भेजा है।

मीटिंग खत्म होते ही कर्मचारी को तलब किया

गृह मंत्री शुक्रवार को विभिन्न विभागों के अधिकारियों की मीटिंग ले रहे थे। विज को कहीं से अंदर की जानकारी मिली कि एक कर्मी काफी समय से विभाग की फाइलों की फोटो लेकर किसी को भेज रहा है। मीटिंग खत्म होते ही विज ने कर्मी को तलब कर उसका मोबाइल ले लिया। उन्होंने मोबाइल देखा तो हैरान रह गए। आरोपित कर्मी माफी मांगकर काफी देर तक गिड़गिड़ाता रहा। विज ने साफ कर दिया कि वो कड़ी कार्यवाही के लिए तैयार रहे।

मोटी रकम वसूली की आशंका, दूसरे कर्मी भी पर रडार पर

सूत्रों के अनुसार आरोपित कपिल द्वारा अहम फाइलों की जानकारी लीक कर मोटी रकम वसूली करने की आशंका है। विज जो फाइलें अप्रूव करते थे, उन्हें आगे संबंधित व्यक्ति को बताकर मोटी रकम वसूल लेता था। वह फाइल से संबंधित व्यक्ति को झांसा देकर खुद काम करने की क्रेडिट लेने के बाद पैसे की डील कर लेता था। वहीं, कपिल की गिरफ्तारी के बाद विभाग के दूसरे कर्मचारी और अधिकारी भी विज सहित यूटी पुलिस का रडार पर हैं। मामले में जल्द ही और भी गिरफ्तारी हो सकती है।

ऐसे होती थी डीलिंग

सूत्रों के अनुसार पुलिस की जांच में अब तक सामने आया कि आरोपित कर्मी कपिल वाट्सएप पर फाइलों की कापी भेजने के साथ सामने वाले से डील कर लेता था। विज जो फाइलें अप्रूव करते थे, उन्हें आगे संबंधित व्यक्ति को बताकर मोटी रकम वसूल लेता था। वह फाइल से संबंधित व्यक्ति को झांसा देकर खुद काम करने की क्रेडिट लेने के बाद पैसे की डील कर लेता था।

 

Edited By: Kamlesh Bhatt