संवाद सहयोगी, कुराली। शहर के अधिकांश एरिया में मुख्य नाले सफाई के अभाव के कारण ब्लॉक हो चुके हैं। बावजूद नगर काउंसिल की ओर से नालों की सफाई के लिए गंभीर नहीं है। जबकि मानसून सीजन शुरू हो चुका है। नाले ब्लॉक होने के कारण बरसाती पानी की निकासी न होने पर शहरवासियों को एक बार फिर वाटर लॉ¨गग की समस्या का सामना करने करना पड़ सकता है। गौरतलब हैं कि स्थानीय रोपड़ मार्ग पर स्थित गवर्नमेंट ग‌र्ल्स स्कूल के सामने, श्री नगर खेड़ा धर्मशाला के सामने, रेलवे रोड से अंडरब्रिज की ओर अनाजमंडी की तरफ, मो¨रडा मार्ग आदि कई क्षेत्रों में मेन नाले सफाई के अभाव में ब्लॉक हैं।

काउंसिल की अधूरी तैयारी, पड़ सकती हैं भारी
कुछ दिन पहले ही बारिश ने काउंसिल के मानसून से निपटने की तैयारियों की पोल खोल दी थी। एक ओर जहां मानसून सीजन दस्तक दे चुका है वहीं नालों में सीवरेज का गंदा पानी ब्लॉकेज के कारण निकल नहीं पा रहा। बावजूद काउंसिल की ओर से अब तक शहर के मेन नालों की ब्लॉकेज को हटाने के बाबत कोई कवायद शुरू नहीं की गई है। इससे जाहिर हो रहा है कि ज्यादा बारिश के दौरान वाटर लॉगिंग की वजह से लोगों की परेशान होना पड़ेगा।

घरों में घुस जाता हैं गंदा पानी
नगरखेड़ा मंदिर मार्ग से गुजरता नाला इस कदर ब्लॉक है कि पांच दस मिनट की तेज बरसात के दौरान ही नाला ओवरफ्लो हो जाता है। इसके कारण सीवरेज का गंदा पानी बारिश के पानी के साथ मेन बाजार के मार्ग पर जमा हो जाता है। यह गंदा पानी लोगों के घरों और दुकानों में घुस जाता है। यही हाल रोपड़ रोड पर स्थित गवर्नमेंट ग‌र्ल्स स्कूल एवं सिविल अस्पताल की एंट्रेंस के साथ से गुजर रहे मेन नाले का है। सफाई के अभाव में जहां नाले में जमा कचरा पानी की निकासी में अवरोधक साबित होता है। वहीं, स्कूल स्टूडेंट्स एवं अस्पताल में आने वाले पेशेंट्स को गंदगी के आलम में बेहद मुश्किलों का सामना करने को विवश होना पड़ता है।

नेशनल हाईवे पर बरसाती पानी की निकासी के प्रबंध नाकाफी
चंडीगढ़ मार्ग पर स्थित खालसा स्कूल के सामने बरसाती पानी की निकासी के पुख्ता इंतजाम न होने के चलते थोड़ी सी बारिश के बाद ही हाईवे पर एक से दो फीट तक पानी जमा हो जाता है। गौरतलब है कि शहर में सीवरेज सिस्टम डाले जाने के दौरान चंडीगढ़ मार्ग पर दोनों ओर बने वर्षों पुराने नाले को तोड़ गमाडा द्वारा पाइपलाइन बिछाई गई थी जिसका डायामीटर कम और लेवलिंग सही नहीं होने के चलते उक्त प्रोजेक्ट असफल साबित हुआ है। इसके फलस्वरूप निकासी के अभाव में हाईवे सहित साथ लगते वार्ड न नौ एवं 11 की गलियों में लोगों को थोड़ी सी बारिश के बाद ही वाटर लॉगिंग की समस्या से जूझना पड़ता है।

मेन नालों की सफाई का कार्य जारी
काउंसिल के सेनेटरी विंग के इंचार्ज दर्शन राणा का कहना था कि शहर में ब्लॉक चल रहे नालों की सफाई का कार्य जारी है और बरसात से पहले सभी नालों को साफ कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि शहर में चंडीगढ़ मार्ग सहित वार्ड नंबर 13 आदि एरिया में नालों की जगह डाली गई कम डायामीटर की पाइपलाइन की वजह से पानी की निकासी सही नहीं होती। इसकी वजह से अक्सर वाटर लॉ¨गग की समस्या उत्पन्न हो जाती है।
 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!