चंडीगढ़, [कुलदीप शुक्ला]। चंडीगढ़ (Chandigarh) की शातिर महिला के कारनामे सुन कर आप भी चौंक जाएंगे। महिला के criminal आपराधिक छवि का अंदाजा सिर्फ उसके रिकॉर्ड से लगाया जा सकता है। अभी 58 की उम्र में वह 52 बार जेल जा चुकी है। हिस्ट्रीशीटर महिला सेक्टर-38 की रहने वाली बाला है। जिसे नशा तस्करी सहित अन्य मामलों में यूटी पुलिस 52 वीं बार गिरफ्तार कर जेल पहुंचा चुकी हैं।

ऐसे हुई बाला की 52वीं गिरफ्तारी 

एसपी साउथ श्रुति अरोड़ा (IPS) के निर्देशानुसार सेक्टर-39 थाना प्रभारी इंस्पेक्टर अपनी टीम के साथ एरिया में चेकिंग कर रहे थे। इसी दौरान मिली गुप्त सूचना के आधार पर थाना प्रभारी ने पुलिस पार्टी के साथ जीरी मंडी के समीप नाकाबंदी कर चेकिंग शुरू कर दी। चंडीगढ़ (Chandigarh) सेक्टर-38 की तरफ से होकर आने वाली महिला पुलिस पार्टी को देख कर मुड़ गई और वह जीरी मंडी की पिछली तरफ भागने लगी। तैनात महिला पुलिसकर्मियों ने उसे दबोच प्रतिबंधित 104 इंजेक्शन की बरामदगी कर ली। महिला के पास इंजेक्शन से संबंधित दस्तावेज या परमिशन नहीं थे। इसके बाद थाना पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत महिला के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया।

महिला का क्रिमिनल रिकार्ड

पुलिस जांच में पता लगा कि आरोपित बाला के खिलाफ विभिन्न पुलिस थानों में कुल 29 केस दर्ज हैं। इनमें से अदालत आरोपित महिला को 22 केसों में दोषी भी ठहरा चुकी है। आरोपित के खिलाफ सेक्टर-39 थाने में चोरी और नशा तस्करी (Drug smuggling) के 17 केस, सेक्टर-11 थाने में पांच, सेक्टर-17 थाने में दो, सारंगपुर थाने में एक, थाना मनीमाजरा में दो, थाना-3 व थाना-19 में एक-एक और पंचकूला (Panchkula) के सेक्टर-5 थाने में आईपीसी-174, ए के तहत एक केस दर्ज हैं।

तीन बार आदतन अपराध का बन चुका है कलंदरा

सेक्टर-39 थाना प्रभारी अमनजोत सिंह ने बताया कि महिला बाला के खिलाफ तीन बार आदतन नशा तस्करी करने का कलंदरा भी बनाकर भेजा जा चुका है। इस कलंदरा के तहत रिकार्ड में जाहिर किया जाता है कि महिला कितनी शातिर और समाज के लिए कितना खतरनाक साबित हो रही है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021