जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। सुबह हुई तेज बारिश के बाद जहां लोगों को गर्मी से राहत मिली है वहीं ट्राइसिटी की सड़कों पर बरसाती पानी भी कई फुट खड़ा हुआ है। हाल ही में चंडीगढ़ मौसम विभाग केंद्र के नए डायरेक्टर मनमोहन सिंह ने भी यह कहा था की मानसून के शेष रहे दिनों में ज्यादा बारिश होने की संभावना नहीं है लेकिन Western disturbance active होने की वजह से कभी भी बारिश हो सकती है। आज चंडीगढ़ के साथ ही पंचकूला और मोहाली में भी तेज बारिश के आसार हैं। दोपहर के बाद एक बार फिर तेज बारिश का सिलसिला शुरू हो सकता है और इस दौरान तेज हवाएं भी चल सकती हैं। सड़कों पर पानी भरा होने की वजह से वाहनों को भी चलने में काफी परेशानी हुई। जहां एक और रात के समय तापमान 24 से 25 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया जा रहा है, वही सुबह के समय तापमान 25 डिग्री के आसपास है। खबर लिखे जाने तक का तापमान 26 डिग्री सेल्सियस के आसपास है और बारिश हो रही है। बीती रात भी कुछेक इलाकों में गरज के साथ छींटे पड़े थे।

पंजाब, हरियाणा और हिमाचल में हो रही बारिश का पड़ा असर

मौसम विभाग के अनुसार आज सुबह हुई बारिश के पीछे कारण पंजाब हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के कई जिलों में हो रही बारिश को माना जा रहा है। हरियाणा में बीते 24 घंटे में अंबाला, कुरुक्षेत्र और यमुनानगर जैसे क्षेत्रों में बारिश हो रही है। वहीं पंजाब में भी कुछ जिलों में तेज बारिश हो रही है जिसकी वजह से शहर में एक्टिव हुए वेस्टर्न डिस्टरबेंस को बारिश का एक माहौल मिल रहा है और यह बरस रहे।

खोली जा सकते हैं सुखना के फ्लडगेट

मौसम विभाग ने आने वाले 3 दिनों तक तेज बारिश के आसार जताए हैं। अगर इन 3 दिनों तक शहर में तेज बारिश होती है तो फिर सुखना लेक के फ्लडगेट दोबारा खोले जा सकते हैं। गौरतलब है कि पिछले महीने भी सुखना लेक के फ्लडगेट एक हफ्ते में दो बार खोले गए थे। हालांकि अभी सुखना लेक का जलस्तर खतरे के निशान से नीचे है लेकिन अगर मौसम विभाग के अनुसार 3 दिन बारिश होती है तो जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच सकता है।

Edited By: Vinay Kumar