जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। चंडीगढ़ में पानी के दाम बढ़ने वाले हैं। शहरवासी पानी के बढ़े हुए रेट के बोझ के लिए तैयार हो जाएं। एक अप्रैल से पानी के बढ़े रेट लागू हो जाएंगे। क्योंकि बीते साल प्रशासन ने कोरोना को देखते हुए व भाजपा के दबाव में 31 मार्च तक पानी के बढ़े हुए रेट पर रोक लगा दी थी। वहीं, नई मेयर सरबजीत कौर ने सलाहकार धर्मपाल से मांग की है कि अभी कोरोना की लहर जारी है, इसलिए पानी के बढ़े रेट न लागू किए जाएं।

नगर निगम चुनाव के दौरान आम आदमी पार्टी ने हर घर 20 हजार लीटर निशुल्क पानी देने का वायदा किया था।ऐसे में आप अगले माह इस प्रस्ताव को सदन में लेकर आ रही है, लेकिन इस प्रस्ताव पर प्रशासन की मंजूरी मिलना आसान नहीं है। कमिश्नर का दावा है कि पानी के बढ़े हुए रेट पर 31 मार्च तक ही रोक है। अधिसूचना के अनुसार ही तीन से चार गुना बढ़े हुए पानी के रेट लागू करते हुए बिल भेजना शुरू कर दिए जाएंगे।

घाटा 140 करोड़ का, कैसे होगा पूरा

नगर निगम के अधिकारियों क अनुसार पानी की सप्लाई से नगर निगम को काफी बड़ा घाटा हो रहा है। निगम को पानी की सप्लाई से हर साल 140 करोड़ रुपये का घाटा हो रहा है। नगर निगम ने घाटे को देखते हुए दोपहर में दो घंटे दी जानी वाली पानी की सप्लाई को चार महीने पहले ही बंद कर दिया है। शहर में एक लाख 40 हजार पानी के कनेकशन हैं। ईडब्ल्यूएस कालोनियों में जहां पर अनमीटर वाटर कनेक्शन हैं वहां पर इस समय 100 रुपये प्रति माह बिल चार्ज किया जाता है। अब अप्रैल से वहां पर 500 रुपये प्रति माह बिल चार्ज करने का प्रस्ताव लागू हो जाएगा।

एक अप्रैल से यह रेट होंगे लागू

स्लैब              इस समय यह टैरिफ (प्रति किलोलीटर)              नए रेट होंगे लागू

शून्य से 15                2 रुपये                                             3 रुपये           

16 से 30                 4 रुपये                                              6 रुपये        

31 से 60                 6 रुपये                                             12 रुपये       

60 से ऊपर             8 रुपये                                              24 रुपये

Edited By: Ankesh Thakur