चंडीगढ़, जेएनएन। सिटी ब्यूटीफुल चंडीगढ़ में ट्रैफिक पुलिस नियमों को अनदेखी करने वालों पर सख्ती बरतती है। इस बात से हर कोई बाकिफ है। इसी बात का ही नतीजा है कि दूसरे राज्यों व शहरों की अनदेखी करने वाले वाहन चालक चंडीगढ़ में सभी ट्रैफिक नियमों का पालन करते हैं।

चंडीगढ़ प्रशासन की तरफ से शहर की सड़कों पर चलने वाले वाहनों की स्पीड लिमिट में कई बदवाल किए गए हैं। नए आदेशों के तहत आठ सीटों वाले वाहनों के लिए डिवाइडर सड़क पर 60 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति सीमा रहेगी। जबकि सिंगल रोड पर 50 किमी प्रति घंटा की सीमा निर्धारित की गई है। इसी तरह सेक्टरों के अंदर की सड़कों पर स्पीड लिमिट 40 किमी प्रति घंटा रहेगी।

इसी तरह नोटिफिकेशन के आधार पर नौ या उससे अधिक सीट वाले वाहनों के लिए डिवाइडिंग रोड पर स्पीड 50 किमी प्रति घंटे और बिना डिवाइडिंग वाली सड़कों पर 40, वहीं, सेक्टरों में भी 40 की गति सीमा निर्धारित की गई है। जबकि कमर्शियल वाहनों के लिए गति सीमा डिवाइडिंग रोड पर 50 की है। वहीं, इन वाहनों के लिए सिंगल रोड और सेक्टर में भी 40 की गति सीमा तय की गई है। वहीं, दो पहिया वाहनों के लिए डिवाइडिंग रोड पर 45 और सिंगल रोड और सेक्टर में 40-40 की गति सीमा तय की गई है।

व्यापार मंडल कर चुका था एसएसपी ट्रैफिक से मांग

शहर में स्पीड लिमिट में बदलाव करने की मांग चंडीगढ़ व्यापार मंडल सहित कई ग्रुप और पार्टियों ने की थी। उस समय वी-3 रोड पर स्पीड लिमिट 50 किलोमीटर प्रति घंटा है जो बेहद कम है इसे बढ़ाया जाने का मांग शामिल था। यह मांग चंडीगढ़ व्यापार मंडल ने एसएसपी ट्रैफिक मनीषा चौधरी से मिलने के बाद उनके सामने रखी थी। स्पीड लिमिट में बदलाव के लिए एसएसपी ट्रैफिक मनीषा चौधरी से मिलने के लिए व्यापार मंडल का एक प्रतिनिधिमंडल प्रेसिडेंट चरनजीव सिंह के प्रतिनिधित्व गया था। इस मौके पर चरनजीव सिंह ने कहा कि वी-1 और वी-2 रोड पर स्पीड लिमिट 50 किलोमीटर प्रतिघंटा है। वी-3 रोड पर स्पीड लिमिट 50 किमी. प्रतिघंटा है। चरनजीव सिंह ने कहा कि यह स्पीड लिमिट बढ़ाने की मांग के साथ पत्र भी दिया था।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप