जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। सेक्टर 43 स्थित हाई कमीशन फैसिलिटेशन सर्विसेज की डायरेक्टर क्रिस्पी खेरा को पुलिस आठ करोड़ की ठगी के मामले में तलाश रही है। इस मामले में चंडीगढ़ इकोनामिक आफेंस विंग (ईओडब्ल्यू) दूसरे डायरेक्टर मोहाली के देवेंदर गिल की निशानदेही पर पंजाब के अलग-अलग जगह पर छापामारी की जा रही है। वहीं, पुलिस देवेंदर से भी पूछताछ करने में लगी है। 330 लोगों से आठ करोड़ रूपये का इमीग्रेशन फ्राड करने वाले कंपनी के डायरेक्टर देवेंदर सिंह गिल रिमांड में चल रहा है। आरोपित हाई कमीशन फैसिलिटेशन सर्विसेज इमिग्रेशन कम्पनी के डायरेक्ट थे। कंपनी लोगों को कनाडा में स्टूडेंट और वर्क परमिट वीजा लगवाने के नाम पर ठगी का शिकार बना रही थी। मामले में सेक्टर-36 थाना पुलिस ने वर्ष 2018 में धारा 420 और 120 बी के तहत केस दर्ज किया था।

ईओडब्ल्यू से मिली जानकारी के अनुसार सबसे पहले इमीग्रेशन कंपनी की डायरेक्टर क्रिस्पी खेरा और देवेंदर सिंह गिल ही थे। बाद में शिकायतों का सिलसिला शुरू होने पर कानूनी तौर पर ज्योति ठाकुर और दूसरे किसी को कंपनी का डायरेक्टर बना दिया था। वहीं, जांच के दौरान मिली शिकायतों के आधार पर पुलिस में मामले में क्रिस्पी खेरा को भी आरोपित बनाया है। हालांकि, दर्ज एफआईआर में खेरा का नाम शामिल नहीं है। इस मामले में वर्ष 2018 में पुलिस के हत्थे चढ़ने वाली ज्योति ठाकुर ने भी क्रिस्पी के खिलाफ लिखित शिकायत दी थी।

यह भी पढ़ें - CM चन्नी का निराला अंदाजः बिना सिक्योरिटी स्टूडेंट्स से मिले, बोले- मुझे अपनी सुरक्षा की नहीं युवाओं के भविष्य की चिंता

यह भी पढ़ें - चंडीगढ़ में बनी अनोखी 15 फीट ऊंची साइकिल, कलाकार विजयपाल ने वेस्ट मटीरियल से की तैयार

Edited By: Pankaj Dwivedi