जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। सेक्टर-22 में रहने वाले एक व्यक्ति से सिम बंद होने का झांसा देकर आरोपित ने छह लाख 80 हजार की धोखाधड़ी कर लिया। पीड़ित सुनील की शिकायत पर साइबर सेल की जांच के बाद सेक्टर-17 थाना पुलिस ने अज्ञात आरोपित के खिलाफ केस दर्ज कर लिया।

सेक्टर-22 निवासी सुनील ने अपनी शिकायत में बताया कि उसके मोबाइल पर सिम बंद होने का मैसेज मिला। जिस नंबर से मैसेज मिला, उससे संपंर्क किया। सामने सेे उसने खुद को कंपनी के कर्मचारी दीपक के तौर पर अपनी पहचान बताई। आरोपित दीपक ने बताया कि सिम एक्टिवेट रखने के लिए उसे एक एप डाउनलोड करना पड़ेगा। आरोपित के बताए अनुसार उसे एप डाउनलोड भी कर लिया। 18 जुलाई 2021 को उनके अकाउंट से छह लाख 80 हजार रुपये ट्रांसफर हो गये। जिसकी शिकायत संबंधित बैंक और थाना पुलिस को दी।

आप भी जान लें ठगी के तरीके

कोरोना से जुटी जानकारी, बचाव और दवाइयों के नाम पर

फर्जी बैंक अधिकारी बनकर एटीएम की जानकारी पूछना

घर बैठे पैसे कमवाने और नौकरी लगाने के नाम पर

सिमकार्ड, क्रेडिट और डेबिट कार्ड अपडेट करने के नाम पर

ऑनलाइन शॉपिंग में बंपर डिस्काउंट के बहाने।

मोबाइल टॉवर लगाने के नाम पर।

मोबाइल मैसेज सर्विस के माध्यम से।

वेबसाइट के माध्यम से संपर्क करके शादी का झांसा देकर।

विदेशों से भारत में गरीबी दूर करने के बहाने डोनेशन करने का झांसा देकर।

किसी भी तरह की कॉल, लिंक या मैसेज आने पर निजी जानकारी सांझा ना करें। सिम, एटीएम, क्रेडिट, डेबिट, बैंक अकाउंट की वैलेडिटी खत्म होने या बंद होने की सूचना पर संबंधित बैंक या सेंटर पर संपर्क करें। कार्ड या पिन नंबर न बताएं। एटीएम कार्ड के सीवी नंबर की जानकारी देने पर धोखाधड़ी के शिकार हो सकते हैं।

राजेश राणा, साइबर एक्सपर्ट।

कोरोना काल में आनलाइन की ओर तेजी से लोगों की बढ़ी संख्या का फायदा उठाकर साइबर क्रिमिनल नए-नए तरीके से धोखाधड़ी कर रहे हैं। मामलों की शिकायत पर जांच करने के साथ आरोपितों को गिरफ्तार भी किया जा रहा हैं। इस तरह के मामले में आपकी सतर्कता ही पहला बचाव है।

रश्मि शर्मा, डीएसपी साइबर सेल।

 

Edited By: Vikas_Kumar