बलवान करिवाल, चंडीगढ़। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर लगाई गईं पाबंदियों ने लोगों के किए कराए पर पानी फेर दिया है। विशेषकर शादी ब्याह से जुड़े कार्यक्रमों की रौनक कोरोना ने इस बार भी छीन ली है। जनवरी के आखिरी सप्ताह, फरवरी और मार्च में शादियों के बहुत से शुभ मुहूर्त हैं। लोगों ने विवाह तिथि निश्चित कर आयोजन स्थल से लेकर सभी तरह की बुकिंग करा रखी है लेकिन कोविड की पाबंदियों ने सभी तरह की तैयारियों को चौपट कर दिया है। प्रशासन ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए ऐसे सभी सामाजिक कार्यक्रमों को पाबंदियों के साथ करने के आदेश दे रखे हैं। लोगों ने अपने रसूख को देखते हुए सैकड़ों लोगों को इन कार्यक्रमों में न्योता दे रखा है पर अब वे सभी को नहीं बुला सकते हैं।

प्रशासन ने इनडोर कार्यक्रमों के लिए केवल 50 लोगों के शामिल होने की मंजूरी दी है। इसी तरह से बाहर ओपन एरिया में 100 लोगों को ही अनुमति है जबकि अमूमन शादियों में 400 से अधिक लोग ही जुटते हैं। इससे ज्यादा तो मेहमान ही हो जाते हैं। सबसे बड़ी दिक्कत उन लोगों को हो रही है जो विभिन्न तरह की बुकिंग करवाकर एडवांस जमा करवा चुके हैं। उन्होंने आयोजन स्थल की बुकिंग से लेकर, कैटरिंग, बैंड और दूसरे कार्यों के लिए बुकिंग करा रखी है। यह बुकिंग ज्यादा लोगों के शामिल होने को लेकर कराई गई है जबकि अब केवल 50 या 100 लोग ही इनमें शामिल हो सकते हैं।

एडवांस में दिए लाखों रुपये डूबे

चंडीगढ़ निवासी गौरव ने बताया कि उनकी बहन की शादी होनी है। आयोजन फरवरी के पहले सप्ताह में है। उन्होंने पहले ही आयोजन स्थल से लेकर दूसरे सभी कार्यों के लिए बुकिंग करके पैसे दे रखे हैं। अब पाबंदियों की वजह से सब कैसे होगा, वह इसी दुविधा में हैं। जहां बुकिंग करवाई है, वह भी पैसे वापस नहीं कर रहे। उनका कहना है कि वह भी आगे हलवाई और दूसरे लोगों को टोकन मनी दे चुके हैं तो वह वापस नहीं कर सकते। प्रशासन स्पष्ट कर चुका है कि नियमों के तहत ही सब किया जा सकता है। कोई नियम तोड़ता है तो कार्रवाई होगी। ऐसे में लोग अब दुविधा में फंसे हुए हैं।

यह भी पढ़ें - कोविड गाइडलाइंस पर प्रशासक पुरोहित आज करेंगे मीटिंग, छोटी मार्केट खोलने के समय में हो सकता है बदलाव

Edited By: Pankaj Dwivedi