जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव की घोषणा के बाद अब शहर में आरोप प्रत्यारोप की राजनीति भी शुरू हो गई है। विपक्ष दल कांग्रेस पार्षद दल के नेता देवेंद्र सिंह बबला ने मेयर रविकांत शर्मा पर कई तरह के आरोप लगाए हैं। बबला ने कहा कि पिछले नगर निगम चुनाव में शहरवासियों भाजपा को वोट देकर सत्ता में लाया था, लेकिन भाजपा ने शहरवासियों के साथ विश्वासघात किया है। भाजपा ने कोई ऐसा टैक्स नहीं छोड़ा जो शहरवासियों पर न थोपा गया हो। 

बबला ने कहा कि आज सारे शहर को खोद खोदकर तार डाले जा रहे हैं, जिस कारण पूरे शहर के लोग परेशान हैं। बबला यहां भी नहीं रुके और उन्होंने रविकांत शर्मा को मेयर की कुर्सी के नशे में डूबा हुआ कह दिया। उन्होंने कहा कि मेयर कभी टाइम निकालकर शहर के किसी कोने में नहीं गए। मेयर कुर्सी के नशे मे झूम रहे हैं। यह नशा अब कुछ ही दिन का बचा है, निगम चुनाव के बाद यह उतर जाएगा। बबला ने कहा कि शहर में डाले जा रहे तार का काम को रोक कर सुचारू रूप से किया जाए। कांग्रेस चंडीगढ़ की जनता से वादा करती है कि नगर निगम में पार्टी की जीत के बाद ऐसी समस्या कभी नहीं आएगी।

आम आदमी पार्टी छोड़ रीमा अकाली दल में शामिल

आम आदमी पार्टी नेता रीमा महाजन अपने समर्थकों के साथ शिरोमणि अकाली दल में शामिल हुई है। शिअद इसे अपनी उपलब्धि मान रहा है और आप को बड़ा झटका बता रहा है। शिअद चंडीगढ़ अध्यक्ष और मौजूदा पार्षद हरदीप सिंह बुटेरला ने रीमा का पार्टी में स्वागत किया और उन्हें पार्टी में बनता मान सम्मान देने का वायदा किया। बुटेरला ने कहा कि चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव के लिए अकाली-बसपा गठबंधन को लोगों का भारी समर्थन मिल रहा है। मौजूदा  सत्ताधारी पक्ष भाजपा तो इस चुनाव में मुकाबले से ही बाहर है। आम आदमी पार्टी की हल्की लीडरशिप से इस पार्टी के कार्यकर्ता ही खुश नहीं हैं जबकि कांग्रेस पार्टी का अंदरूनी कलह हार का कारण बनेगा और अकाली-बसपा गठबंधन का मेयर बनाया जाएगा। इस मौके पर अकाली दल के महिला विंग की प्रधान बीबी सतवंत कौर जौहल, चरनजीत सिंह विल्ली, सर्कल प्रधान बलविन्दर सिंह, ओम प्रकाश काका, सुरजीत सिंह राजा और जगदीप महाजन मौजूद रहे।

Edited By: Ankesh Thakur