चंडीगढ़, जेएनएन। कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा ने गवर्नर वीपी सिंह बदनोर व एडवाइजर शमनोज परिदा से कहा है कि कर्फ्यू के कारण नौकरी, रोजगार व बिजनेस बिल्कुल ठप हो चुका है। लोगों की आर्थिक स्थिति बिल्कुल बिगड़ी हुई है। लॉक डाउन के खुलते ही बच्चों का नया सेशन शुरू होने के कारण परिजनों पर स्कूल की एडमिशन व मासिक फीस का भार पड़ेगा, जो उनके लिए देना बहुत मुश्किल होगा। इसलिए लॉक डाउन के खत्म होने तक सरकारी व प्राइवेट स्कूलों में पढ़ते बच्चों की मासिक फीस (टयूशन, बस, ऑटो व रिक्शा फीस) बिल्कुल माफ कर देनी चाहिए। इस मुश्किल के समय मे प्रशासन की ओर से उनकी मदद की जानी चाहिए। 

छाबड़ा ने अन्य मांग रखते हुए कहा कि हजारों वेंडर, ऑटो रिक्शा चालक व रिक्शा चालक रोज दिहाड़ी कमा कर अपना व अपने परिवार का पेट पालते हैं, लेकिन कर्फ्यू के कारण इनके कमाने के सारे साधन बिल्कुल बंद हो चुके हैं। वे उधार मांग कर खाने व अन्य खर्चे पूरे कर रहे हैं। इसे देखते हुए प्रशासन को इनके लिए एक आर्थिक (नकदी) मदद करनी चाहिए, ताकि उनपर पड़ने वाला भार कम हो सके। कॉलोनियों व गांवों में बहुत से ऐसी आबादी है, जो रोज कमा कर अपना खर्चा पूरा करती है। अब सभी काम बिल्कुल बंद पड़े हैं। प्रशासन को तत्काल इन मुख्य मुद्दों को संज्ञान पर लेते हुए सकारात्मक निर्णय लेना चाहिए।

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Vikas_Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!