चंडीगढ़, जेएनएन। ढाई महीने बाद नगर निगम की सदन की बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई। अभी तक पार्षद शहर में कोरोना की लड़ाई के लिए किए गए प्रयासों पर चर्चा की। सभी पार्षदों ने कमिश्नर केके यादव और मेयर राजबाला मलिक के साथ-साथ अधिकारियों की प्रशंसा की। 

कांग्रेस पार्षद गुरबख्श रावत ने कहा कि जो वेंडर्स गलियों में आ रहे हैं, उन्हें भी नगर निगम की ओर से दस्ताने और मास्क उपलब्ध कराए जाएं। कांग्रेस पार्षद सतीश कैंथ ने कहा कि जो पिछले दिनों वित्त एवं अनुबंध कमेटी में गांव की दुकानों के किराए बढ़ाने का फैसला लिया गया है, उसे वापस लिया जाए क्योंकि इस समय किराए का रेट बढ़ाने का फैसला उचित नहीं है। वहीं सीनियर डिप्टी मेयर रवि कांत शर्मा ने कांग्रेस पार्षद दल के नेता देवेंद्र सिंह बबला को कहा कि वह वीरवार को दिए गए बयान के लिए माफी मांगे। रविकांत शर्मा का कहना है कि बबला ने यह बयान दिया है कि कोरोना में मंदिरों में लोगों की मदद नहीं की। 

कांग्रेस पार्षद दल के नेता दविंदर सिंह बबला ने भाजपा पार्षदों को जवाब देते हुए कहा कि उन्होंने मंदिरों के लिए कोई गलत शब्दों का प्रयोग नहीं किया है। बबला ने कहा है कि वह भी हिंदू हैं और प्रतिदिन मंदिर जाते हैं। उन्होंने कहा कि जब उनके एरिया सेक्टर 27 में प्रशासन मंदिर को तोड़ने आया था, तो वहीं बुलडोजर के आगे खड़े हुए थे जबकि उस समय भाजपा के नेता गायब थे।

Posted By: Vikas_Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!