जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। खरड़ में महिला ड्रग इंस्पेक्टर नेहा शौरी की हत्या के बाद चंडीगढ़ जीएमएसएच-16 में तैनात महिला ड्रग इंस्पेक्टर सारिका मलिक ने एक वकील पर धमकाने का आरोप लगाया है। ड्रग इंस्पेक्टर की शिकायत पर सेक्टर-17 थाना पुलिस ने अलग-अलग धारा के तहत अारोपित एडवोकेट के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। थाना पुलिस के अनुसार मामले की पूरी जांच और मामले में नाम सामने आने वालों के बयान के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

ड्रग इंस्पेक्टर सारिका मलिक ने आरोप लगाया कि बलटाना निवासी एडवोकेट बजिंदर नाथ चौबे कुछ समय से अपने तीन क्वाइंट को लाइसेंस दिलवाने के लिए उनके पास आ रहा है। लेकिन, उन्होंने साफ बोला दिया सभी तथ्यों का खुद जांच करने के बाद ही लाइसेंस जारी करेगी। शिकायतकर्ता के अनुसार बजिंदर मंगलवार दोपहर करीब दो बजे उनके अॉफिस में आकर लाइसेंस बनाने का दवाब डालने लगा। इस दौरान उनके बीच विवाद बढ़ने लगा तो एडवोकेट ने उन्हें कुर्सी पर नही रहने की धमकी दे दी। जिसके बाद उन्होंने अस्पताल में तैनात दीवान को इसकी सूचना दी। दीवान से मामले की सूचना पाकर पहुंची थाना पुलिस ने शिकायत के अाधार पर आरोपित एडवोकेट के खिलाफ जमानती धारा में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!