जागरण संवाददाता, पंचकूला। पंचकूला जिले के पर्यटन स्थल मोरनी में एक सड़क हादसे में कार सवार पूरा परिवार बाल-बाल बच गया। मोरनी घूमने परिवार के साथ आए शख्स की कार अनयंत्रित होकर खाई में लुढ़क गई। जिस समय यह हादसा हुआ उस दौरान कार में परिवार के कुल पांच लोग सवार थे। कार में तीन बच्चे और पति पत्नी थे। गनीमत रही कि हादसे में कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है, हालांकि कुछ को चोटें जरूर आई हैं। हादसा रविवार दोपहर मोरनी-रायपुररानी रोड़ पर पलासरा गांव के पास हुआ है। हादसे के बाद सभी घायलों को एंबुलेंस के जरिये अस्पताल पहुंचाया गया जहां उनका प्राथमिक उपचार करने के बाद घर भेज दिया गया है।

बता दें कि पंचकूला से मोरनी तक का सफर थोड़ा खतरनाक है। क्योंकि इस मार्ग पर शर्पिली सड़कें है। ज्यादातर मोड़ तीखे हैं। जहां अनजान चालक के लिए ड्राइविंग करना थोड़ा मुश्किल होता है। इस वजह से इस मार्ग पर हादसे होते हैं। क्योंकि वाहन चालकों को इन तीखे मोड़ के बारे में जानकारी नहीं होती।

जानकारी के मुताबिक कार चालक संजय अंबाला से परिवार के साथ अपनी कार से मोरनी घूमने आया था। मोरनी से अंबाला लौटते वक्त अचानक उनकी कार अनियंत्रित हो गई। कार चालक संजय ने ब्रेक लगाने की कोशिश की तो उसे महसूस हुआ कि ब्रेक फेल हो गया है। जब तक वह कार पर नियंत्रण करता कार सड़क पर स्थित स्थानीय ग्रामीण के घर की तरफ चली गई और वहां से ढलान में इसी सड़क के निचले मोड़ पर फंस गई।

कार जैसे ही ढलान में खाई की ओर गिरी तो उसमें सवार कार चालक के तीनों बच्चे बाहर गिर गए, जिन्हें सिर व कमर में चोट आई हैं। जबकि व्यक्ति व उसकी पत्नी कार में ही फंसे रहे और सड़क पर लगी बचाव दीवार के ऊपर कार लटक गई। स्थानीय लोगों व राहगीरों ने उन्हें कार से बाहर निकाला।

मौके पर मौजूद पलासरा निवासी परमाल सिंह ने बताया कि जिस समय हादसा हुआ उस दौरान वह अपने घर पर मौजूद थे। अचानक उन्हें जोर की आवाज सुनाई दी तो वह बाहर आए। उन्हें घर के पास खाई में से चिल्लाने की आवाजें सुनाई दी। उन्होंने अन्य लोगों की मदद से परिवार के सभी लोगों को बाहर निकालकर एंबुलेंस बुलाकर उन्हें अस्पताल भिजवाया। परिवार के सभी लोग उस समय सकुशल थे केवल दो बच्चों को चोटें आई थी। वहीं, कार पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुकी है।

Edited By: Ankesh Thakur