जेएनएन, चंडीगढ़। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि 1984 के सिख विरोधी दंगों में कांग्रेस पार्टी व गांधी परिवार की कोई भूमिका नहीं थी। उन्होंने इस मामले में बिना किसी कारण गांधी परिवार को घसीटने की फिर कोशिश करने पर शिअद अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि इन दंगों में व्यक्तिगत रूप में कुछ कांग्रेसी नेता शामिल थे जिनको पार्टी लीडरशिप का गुप्त या खुलेतौर पर कोई समर्थन हासिल नहीं था।

मुख्यमंत्री ने पुन: दोहराया कि यदि किसी की व्यक्तिगत तौर पर सिख विरोधी दंगों में कोई भूमिका है तो वह सजा का हकदार है। उसे गुनाहों की सजा मिलनी चाहिए, लेकिन इस मामले में पूरी कांग्रेस पार्टी या गांधी परिवार को लपेटने की कोशिश करना गैरवाजिब है। कैप्टन ने कहा कि हिंसा के समय राहुल स्कूल में पढ़ता बच्चा था और राजीव गांधी पश्चिम बंगाल में थे।

कैप्टन ने सुखबीर द्वारा राहुल गांधी की लीडरशिप को कमजोर करने के लिए की जा रही कोशिशों को हास्यास्पद बताते हुए कहा कि राहुल के नेतृत्व में कांग्रेस ने हाल ही में तीन बड़े राज्यों में जीत हासिल की है। सुखबीर बादल संसदीय चुनाव को देखते हुए हाथ-पैर मार रहे हैैं। वोटरों का समर्थन जुटाने को लोगों की धार्मिक भावनाओं के साथ खेलने पर अकालियों को आड़ेहाथ लेते हुए इस संवेदनशील मसले का सियासीकरण बंद करने को कहा। उन्होंने कहा कि राजनीतिक लाभ के लिए धर्म का दुरुपयोग करने से अकाली दल को कोई फायदा नहीं पहुंचेगा। अगले लोकसभा चुनाव में भी इस पार्टी का हाल 2017 के विधानसभा चुनाव वाला ही होगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt