-जालधर व लुधियाना मे भी बीआरटीएस प्रोजेक्ट बनाने को मजूरी -मोहाली, लुधियाना व अमृतसर मे कनवेशन सेटर को भी क्लीन चिट ---- राज्य ब्यूरो, चडीगढ़: मुख्यमत्री कैप्टन अमरिदर सिह ने मगलवार को अमृतसर के बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (बीआरटीएस) प्रोजेक्ट की देखरेख को लेकर पजाब इफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेट बोर्ड (पीआइडीबी) से कहा है कि पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल अपना कर बीआरटीएस प्रोजेक्ट को विकसित किया जाए। पीआइडीबी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के साथ हुई बैठक मे मुख्यमत्री ने लुधियाना, मोहाली व अमृतसर मे तीन कनवेशन सेटर्स के निर्माण को भी स्वीकृति दे दी है। साथ ही सूबे मे पीपीपी मॉडल पर 50 अत्याधुनिक बस स्टेशनो के निर्माण को भी मजूरी दी। बैठक मे कैप्टन ने कहा कि लुधियाना, मोहाली व अमृतसर मे बनने वाले कनवेशन सेटर्स मे आधुनिक होटल व अन्य जरूरी बातो का ध्यान रखा जाए। इसके लिए ग्लाडा, गमाडा व एडीए की जिम्मेवारी तय की गई है। साथ ही कहा कि एक महीने के अदर इस सदर्भ मे टेडर की प्रक्रिया भी पूरी कर ली जाए, जिससे इनके निर्माण मे किसी भी स्तर पर कोई देरी न हो। बैठक मे निकाय व पर्यटन मत्री नवजोत सिह सिद्धू ने कहा कि अमृतसर के बीआरटीएस प्रोजेक्ट पर पिछली सरकार ने गभीरता से काम नही किया था। मुख्यमत्री ने बीआरटीएस को लेकर कहा कि बसो का सचालन 15 अप्रैल से हर हाल मे शुरू करवाया जाए। सिद्धू ने मुख्यमत्री से माग की कि अर्बन ट्रासपोर्ट फंड बनाया जाए, जिससे पजाब मे पब्लिक ट्रासपोर्ट सिस्टम को बेहतर बनाया जा सके। इसके लिए कैप्टन ने 10 करोड़ सालाना फंड को स्वीकृति प्रदान कर दी। कैप्टन ने अमृतसर मे बीआरटीएस प्रोजेक्ट को पूरा करने के बाद इसी तर्ज पर जालधर व लुधियाना मे प्रोजेक्ट बनाकर काम करने के आदेश दिए।