चंडीगढ़, जेएनएन। जरूरत से ज्यादा खाने से पेट का आकार बड़ा होने लगता है और धीरे-धीरे यह मोटापे का कारण बन जाता है। ऐसी स्थिति में बेरिएट्रिक सर्जरी के जरिए बढ़े हुए पेट को काटकर ओवरवेट को कम किया जा सकता है, लेकिन इस सर्जरी के बाद खान-पान व नियमित व्यायाम जैसे पहलुओं पर विशेष ध्यान देना जरूरी हो जाता है। ऐसा न करने पर सर्जरी का कोई लाभ नहीं मिलता। मोटापे की समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा है।

मोहाली के फोर्टिस हॉस्पिटल के बेरिएट्रिक एंड मेटाबोलिक सर्जन डॉ. अमित गर्ग ने बताया कि इसके लिए कई कारक जिम्मेदार हैं। जिसमें थायरायड, प्रेग्नेंसी, रिपीटेड अबॉर्शन, मेनोपॉज, हार्मोनल चेंज प्रमुख है। इसलिए महिलाओं को विशेष तौर पर जागरूक रहने की जरूरत है। डॉ. अमित ने बताया कि बेरियाट्रिक सर्जरी लेप्रोस्कोपिक टेक्निक से की जाती है। जिसमें कई छोटे-छोटे कट लगाए जाते हैं। उन कट को कुछ टांकों से बंद कर दिया जाता है। जिससे मरीज की रिकवरी बहुत तेजी से होती है। इस सर्जरी के बाद साइड इफैक्ट का खतरा न के बराबर रहता है।

भारत में मोटापा

मोटापे में भारत विश्व में तीसरे नंबर पर

देश की 74 प्रतिशत आबादी ओवरवेट

5 साल से कम उम्र के 50 प्रतिशत बच्चे मोटापे का शिकार

पंजाब में 30 प्रतिशत पुरुष ओवरवेट।

पंजाब में 40 प्रतिशत महिलाएं ओवरवेट

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Vipin Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!