जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : बैंक में यदि कोई जरूरी काम है तो उसे 15 दिसंबर से पहले निपटा लें। 16 और 17 दिसंबर को बैंक ला एमेंडमेंट बिल 2021 के विरोध में देश भर के सरकारी और प्राइवेट बैंक बंद रहेंगे। 18 दिसंबर को शनिवार बैंक खुलेंगे, लेकिन 19 दिसंबर को रविवार होने के चलते छुट्टी रहेगी। बैंक बिल 2021 के विरोध में शनिवार को यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन ने सेक्टर-17 स्थित बैंक स्क्वायर में धरना-प्रदर्शन किया।

यूनियन के कनवीनर संजीव बंदलिश ने बताया कि सरकार बड़ी तेजी से बिलों को संसद में लाती है और उसे बिना किसी चर्चा के पास कर दिया जाता है। इसका खामियाजा आम जनता को भी भुगतना पड़ता है। इस बार जो बिल संसद में पेश होने जा रहा है उसमें क्या किया गया है और उससे क्या फायदा या नुकसान होगा इसके बारे में कोई नहीं जानता। यदि बिल को बिना चर्चा के पास किया जाता है तो वह आम जनता को नुकसान पहुंचा सकता है।

यूनियन के सदस्य दीपक शर्मा ने कहा कि यदि सरकारी बैंकों का निजीकरण होता है तो सबसे ज्यादा नुकसान आम जनता को होगा। प्राइवेट बैंक सभी तरह के लोन पर ज्यादा ब्याज लेते हैं। इसके अलावा यदि बैंक में कोई राशि जमा है तो उस पर ब्याज नाममात्र का होता है। इससे आम लोगों को सबसे ज्यादा नुकसान है।

Edited By: Jagran