-अमृतसर के सांसद ने अपनी ही सरकार के सिविल सप्लाई विभाग की कार्यप्रणाली पर उठाए सवाल

---

::घटिया क्वालिटी::

-सरकारी राशन डिपो पर बांटे जा रहे गेहूं व दाल के सैंपल मीडिया को दिखाए

-मंत्री भारत भूषण आशु से भी की थी शिकायत, फिर भी नहीं सुधरी सप्लाई

---

जागरण संवाददाता, अमृतसर: अमृतसर के कांग्रेसी सांसद गुरजीत सिह औजला ने राज्य में अपनी ही पार्टी की सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर दिए हैं। सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए औजला ने खुलासा किया है कि अमृतसर जिले के बहुत सारे राशन डिपो पर घटिया स्तर का अनाज और दालें बांटी जा रही हैं। गेहूं और दालों का स्तर इतना घटिया है कि इन्हें पशु भी न खाएं। इस अनाज से गंदी बदबू आ रही है। इसे लोग खुले में फेंकने से भी गुरेज करेंगे। उन्होंने इस मामले को विभाग के मंत्री भारत भूषण आशु के ध्यान में भी लाया था, लेकिन अधिकारियों ने कोई सुधार नहीं किया। अब वे इसे मुख्यमंत्री के समक्ष भी उठाएंगे। डिपो पर दिए जा रहे इस घटिया स्तर के राशन को लेकर औजला ने विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करके उनकी क्लास भी लगाई।

मीडिया के समक्ष गेहूं और दाल के भरे लिफाफों के सैंपल दिखाते हुए कहा कि फूड व सिविल सप्लाई विभाग की कार्यप्रणाली अति घटिया स्तर की है। उनसे जिले के कई डिपो होल्डर मिले हैं, जिन्होंने उनको गेहूं और दालों के सैंपल दिए हैं। उन्होंने कहा कि वह खुद भी कई डिपो पर गए हैं और वहां जाकर आनाज के सैंपल भी चेक किए हैं। यह इतना घटिया स्तर का है कि इसे पशु भी खाने के लिए तैयार नहीं होंगे।

औजला ने कहा कि पंजाब सरकार की ओर से नीले कार्ड धारकों को जो राशन सरकारी राशन डिपो के माध्यम से बांटा जा रहा है, उसमें इतनी मिलावट है कि इस पर विभाग की कार्यप्रणाली पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। आखिर इतना घटिया अनाज कैसे लोगों को सप्लाई हो रहा है। अनाज में पाई जा रही मिलावट से आम लोग ही नहीं बल्कि डिपो होल्डर भी परेशान हैं। इस के चलते लोगों और डिपो होल्डरों में हर रोज झगड़े हो रहे हैं। आशु ने दिया कार्रवाई का भरोसा

विभाग के मंत्री भारत भूषण आशु के ध्यान में ला चुके हैं। जिन्होंने इस पर कार्रवाई करने का भरोसा दिया है। उन्होंने कहा कि वह इस मामले को लेकर विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करके उनको चेतावनी भी दे चुके हैं। बताया कि इस से पहले विभाग में अनाज घोटाले के भी कई मामले सामने आ चुके हैं। इन सब से स्पष्ट होता है कि विभाग में सब कुछ ठीक नही है।

Posted By: Jagran