जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह संपर्क से समर्थन अभियान के तहत वीरवार को चंडीगढ़ में पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर और पद्मश्री मिल्खा सिंह से मिले। खेल जगत के इन दोनों दिग्गजों से मिलने के दौरान अमित शाह ने इन्हें मोदी सरकार की उपलब्धियों की बुकलेट 'साफ नीयत, सही विकास' सौंपी और उन्हें सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया। अमित शाह सेक्टर -36 स्थित बलबीर सिंह सीनियर के घर शाम 5:58 पर पहुंचे और उनके पांव छूकर आर्शीवाद लिया। शाम 6:35 बजे शाह सेक्टर-44 स्थित गुरुद्वारा साहिब के लिए रवाना हो गए। मिल्खा सिंह के घर अमित शाह शाम सवा 7 बजे पहुंचे और शाम 7:37 बजे तक वहीं रहे। इसके बाद वह चंडीगढ़ भाजपा कार्यलय कमलम में चले गए। युद्ध से नहीं मेडल से देश का सम्मान तय होगा

खेलों का बजट बढ़ाओ अमित जी : बलबीर सिंह सीनियर

पदमश्री बलबीर सिंह सीनियर ने बताया कि उनसे अमित शाह से कोई राजनीतिक बातचीत नहीं हुई। पहले उनका हालचाल जाना और फिर खेल पर चर्चा शुरू हो गई।उन्होंने अमित शाह को बताया कि आने वाले वक्त में युद्ध से नहीं मेडल से ही देश का सम्मान तय होगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ज्यादा से ज्यादा मेडल जीतने से ही देश का सम्मान बढ़ेगा। यह तभी संभव है कि जब देश में खेलों का मजूबत बुनियादी ढांचा होगा। इसके लिए सरकार को खेल बजट बढ़ाना होगा। बलबीर सिंह की अमित शाह से खास मांग

12 अगस्त को तिरंगा दिवस के रूप में मनाएं

पद्मश्री बलबीर सिंह ने अमित शाह से मांग की कि देश 12 अगस्त को तिरंगा सम्मान दिवस के तौर पर मनाए। उन्होंने बताया कि 12 अगस्त 1948 को आजादी के बाद पहली बार भारत ने ओलंपिक में हॉकीफाइनल में भारत ने इंग्लैंड को 4-0 से हराकर गोल्ड मेडल जीता था। यह पहला मौका था जब इतने बड़े खेल आयोजन में तिरंगा लहराया था और राष्ट्रीय गान मंच पर बजा था। इस साल 12 अगस्त को इस दिन की 70वीं सालगिरह है। उन्होंने कहा कि भारत ने फाइनल में इंग्लैंड को हराया था, इंग्लैंड ने भारत पर 200 वर्षो से ज्यादा राज किया था। उस लिहाज से यह जीत अब तक की सबसे बड़ी जीत है। ---------------- गरीबों को ध्यान में रखकर बनाए योजनाएं, सरकार की सबसे ज्यादा जरूरत उनको ही : मिल्खा सिंह

अमित शाह से मिलने के बाद पद्मश्री मिल्खा सिंह ने बताया कि उन्हें अमित शाह ने केंद्र सरकार की नीतियों बारे में बताया, जो उन्हें पहले से मालूम थी। इसलिए उन्होंने अमित शाह को यही सलाह दी कि वह कोई भी योजना शुरू करें तो गरीबों का जरूर ध्यान रखें। उनके अनुसार गरीब को ही सबसे ज्यादा सरकार की जरूरत है। खेल को लेकर मैंने उन्हें इस बार कोई सुझाव नहीं दिया। हां, पिछली बार मिले थे तो उन्हें राजवर्धन सिंह राठौर को खेलमंत्री बनाने की सिफारिश की थी, जो उन्होंने जाते ही पूरी कर दी थी। मोदी के काम से खुश हूं : मिल्खा सिंह

मिल्खा सिंह ने बताया कि साल 1948 से अब तक उन्होंने देश की सभी सरकारें और प्रेसिडेंट देखे हैं, लेकिन मोदी देश के इकलौते प्रधानमंत्री ऐसे में जिनकी बात सीधी जनता के दिलों तक पहुंचती है। उन्होंने बताया कि वह लगातार देश दुनिया में दौरे करते रहते हैं, इस दौरान जब सियासत की बात होती है तो लोगों के मुंह से मोदी की जमकर तारीफ सुनते हैं।

Posted By: Jagran