मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, चंडीगढ़। 2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस नहीं हारी, बल्कि बागियों ने कांग्रेस को हरा दिया। 2012 की इस गलती से कांग्रेस ने सबक लेना शुरू कर दिया है। पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने स्क्रीनिंग कमेटी को निर्देश दिए हैं कि इलेक्शन कमेटी में केवल प्रत्याशी के नाम ही नहीं, बल्कि संभावित बागी नेताओं की भी लिस्ट लेकर आएं।

2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के 22 बागी चुनाव मैदान में थे। इन्हीं बागियों के कारण पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा। इस बार पार्टी ने टिकट के लिए आवेदन मांगते समय ही यह हलफिया बयान लिया था कि टिकट न मिलने पर बागी मैदान में नहीं डटेंगे, लेकिन पार्टी को भी मालूम है कि यह हलफिया बयाना का वैधानिक रूप से कोई महत्व नहीं है। इसलिए ये निर्देश दिए हैं।

सोनिया ने प्रदेश प्रधान कैप्टन अमरिंदर सिंह, राज्यसभा सदस्य अंबिका सोनी और विधायक दल के नेता चरणजीत सिंह चन्नी को यह जिम्मेदारी सौंपी है कि संभावित बागियों को चिन्हित कर उनसे संपर्क किया जाए और उन्हें राजी किया जा कि वह बागी होकर चुनाव नहीं लड़ेंगे। इन तीनों नेताओं को यह भी बताना पड़ेगा कि उन्होंने किन-किन नेताओं से संपर्क किया और डैमेज कंट्रोल के लिए क्या प्रयास किए। हालांकि कैप्टन कह चुके हैं कि टिकट न मिलने वालों को सरकार बनने पर बोर्ड-कॉरपोरेशन में एडजस्ट किया जाएगा।

स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक कल

कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक 13 दिसंबर को होने जा रही है। इसमें करीब 27 सीटों पर प्रत्याशियों का पैनल बनेगा। इन सीटों पर कांग्रेस में एक राय नहीं बन पा रही है। मनीष तिवारी के संबंध में कैप्टन ने कहा कि टिकट का विशेषाधिकार अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष के पास है। गायक हंसराज हंस के कांग्रेस छोडऩे व भाजपा में जाने के सवाल पर कहा कि शायद वह राष्ट्रीय स्तर पर कद हासिल करना चाहते हैं।

जल्द तय होंगे प्रत्याशियों के नाम

दिल्ली में आप नेताओं के कांग्रेस में शामिल होने के मौके पर अमरिंदर ने कहा कि अकाली व आप की तरह कांग्रेस में कोई एक व्यक्ति या परिवार फैसला नहीं लेता है। इसकी एक लंबी प्रक्रिया है। स्क्रीनिंग कमेटी व केंद्रीय चुनाव समिति की दो बार बैठक हो चुकी है। जल्द ही उम्मीदवारों के नाम तय कर लिए जाएंगे।

प्रियंका से करेंगे प्रचार का अनुरोध

कैप्टन ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व उपाध्यक्ष राहुल गांधी पंजाब विधानसभा चुनाव में पार्टी का प्रचार करेंगे। प्रियंका गांधी से भी अनुरोध करेंगे।

सिद्धू से हो चुकी है बात

नवजोत सिंह सिद्धू के पार्टी में शामिल होने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उनसे बात हो चुकी है। उनके जल्द ही कांग्रेस में शामिल होने की उम्मीद है। पंजाब में दलित उप मुख्यमंत्री बनाने की केजरीवाल की घोषणा पर अमरिंदर ने कहा कि उन्होंने दिल्ली में न तो दलित और न ही सिख को मंत्री बनाया है।

पढ़ें : हंसराज हंस कांग्रेस छोड़ भाजपा में हुए शामिल, मोदी को बताया- बब्बर शेर

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!