जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : वोट डालना हम सभी का अधिकार और कर्तव्य है। जो लोग इसे लेकर लापरवाही करते हैं, उसका खामियाजा पूरे देश की जनता को पांच साल तक भुगतना पड़ता है। इसलिए एक-एक वोट के महत्व को समझना होगा। अगर हम जागरूक हैं तो हमें औरों को जागरूक करना होगा। हम अपने वर्किग प्लेस पर ही यह प्रयास कर रहे हैं। मरीजों की देखभाल करने के साथ ही उन्हें और उनके परिजनों को वोटिग के लिए मोटिवेट कर रहे हैं। यह कहना है चंडीगढ़ के हॉस्पिटल्स के नर्सिग स्टाफ का, जो दैनिक जागरण की मुहिम मेरा वोट मेरी पहचान से जुड़ गए हैं। वे अपने बिजी शेड्यूल के बीच एक बेहतर लोकतंत्र के  निर्माण के लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं। नर्सिंग वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारी अपनी मीटिग में वोटिग पर भी चर्चा कर रहे हैं। चंडीगढ़ के नर्सिंग स्टाफ से मुहिम को लेकर दैनिक जागरण संवाददाता वीणा तिवारी ने वीरवार को विशेष बातचीत की। मतदान करने के लिए हमें खुद से आगे आना होगा, यह हमारा अधिकार और दायित्व दोनों है। हम किसी भी अव्यवस्था के लिए सिस्टम को दोष देते हैं, लेकिन उस वक्त यह भूल जाते हैं कि उसे लाने में हमारा भी योगदान रहा है। इसलिए वोटिग हर हाल में करें और बेस्ट कैंडिडेट का ही चुनाव करें।

-संदीप यादव, जनरल सेक्रेटरी, नर्सिग वेलफेयर एसोसिएशन जीएमसीएच-32 देश का एक-एक वोट बहुत इंपोर्टेट है। महज एक वोट से किसी की हार या जीत हो सकती है। इसलिए खुद भी जागिए और औरों को भी जगाइए। क्योंकि एक बार मौका गया तो फिर अगले पांच साल तक सिवाय पछताने के और कुछ हाथ नहीं आने वाला। हम अपने हॉस्पिटल में भी इसके लिए अवेयरनेस कैंपेन चला रहे हैं।

-शोभना पठानिया, जनरल सेक्रेटरी, नर्सिग वेलफेयर एसोसिएशन, जीएमएसएच-16 हम अपनी ड्यूटी के बाद हॉस्पिटल स्टाफ के साथ ही एडमिट मरीजों के परिजनों को वोटिग पावर के बारे में बता रहे हैं। अगर हमारे मोटिवेशन से चंद लोगों ने भी इसका महत्व समझ लिया तो समझो हम सफल हो गए। मतदान देश के हर नागरिक का अधिकार है और इसका उपयोग हर हाल में करना चाहिए।

-परमिदर कौर, प्रेसिडेंट, नर्सिग वेलफेयर एसोसिएशन, जीएमएसएच-16 एक-एक बूंद से घड़ा भरता है। अगर हर कोई यह सोचने लगे कि एक मेरे वोट देने या न देने से क्या फर्क पड़ता है तो फिर देश का वोटिग परसेंट शून्य होता। जब एक बड़ा तबका इसे लेकर गंभीर है तो सभी क्यों नहीं? मतदान को लेकर हमें सजग होना होगा, क्योंकि इसका दूरगामी प्रभाव देश की व्यवस्था के साथ ही प्रत्येक नागरिक के जीवन पर पड़ता है।

-चेतन सोनी, मेंबर, जीएमसीएच-32 हम बदलाव के लिए बड़ी-बड़ी बातें करते हैं लेकिन मतदान के दौरान अपनी मानसिकता नहीं बदल पाते। रूढ़ीवादी विचारधारा छोड़कर मौजूदा स्थिति के आधार पर चुनाव करना होगा। एक बेहतर कल की परिकल्पना को साकार करने के लिए हमें आज से प्रयास करना होगा। जागरूकता की कड़ी को व्यापक रूप देना होगा, जिससे देश का हर व्यक्ति अपने मतदान का प्रयोग करे।

-सुनील कुमार, वाइस प्रेसिडेंट, नर्सिग वेलफेयर एसोसिएशन, जीएमसीएच-32 आधी आबादी होने के नाते हम महिलाओं का दायित्व भी बहुत महत्वपूर्ण है। अगर बात मतदान की हो तो उसे लेकर हर महिला को जागरूक होना होगा। अपने घर के सदस्यों के साथ ही आस पड़ोस के लोगों को मतदान के लिए जागरूक करना होगा। नर्सिंग स्टाफ अपने इस दायित्व को अपने कार्य क्षेत्र में बखूबी निभा रहा है। इसका सकारात्मक परिणाम सामने आएगा।

-सोनिया योगिन, ज्वाइंट सेक्रेटरी, नर्सिग वेलफेयर एसोसिएशन, जीएमसीएच-32

Posted By: Jagran