विकास शर्मा, चंडीगढ़

कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने का असर हवाई यातायात पर भी देखने को मिल रहा है। जैसे -जैसे संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं वैसे -वैसे चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर यात्रियों की आवाजाही लगातार कम हो रही है। सामान्य दिनों में जहां चंडीगढ़ एयरपोर्ट से रोजाना यात्रियों की आवाजाही 15 से 20 हजार के करीब रहती हैं, वहीं अब यह संख्या तीस से चालीस फीसद तक कम हो गया है। यात्रियों की संख्या कम होने का असर फ्लाइट शेड्यूल पर भी देखने को मिल रहा है। आलम यह है कि पिछले तीन दिनों में 18 फ्लाइट रद हो चुकी हैं। दरअसल कोरोना के डर से यात्री सफर करने से बच रहे हैं। विमानन कंपनियां ऑपरनेशनल रीजन बताकर फ्लाइट्स रद कर रही हैं। शनिवार को भी छह फ्लाइट्स रद रही।

संक्रमण बढ़ने से पहले बढ़ रही थी यात्रियों की संख्या

कोरोना संकटकाल से पहले एयरपोर्ट पर यात्रियों की आवाजाही के आंकड़े हैरान करने वाले हैं। जिन एयरपोर्ट पर तेजी से यात्रियों की संख्या में इजाफा हो रहा है उनमें चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट का स्थान अग्रणी है। एयरपोर्ट से आवाजाही करने वाले यात्रियों में हर साल डेढ़ लाख से ज्यादा यात्री संख्या में इजाफा हो रहा है। साल 2003 में जहां चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर यात्री की संख्या तीन लाख के करीब थी, वहीं साल 2015-16 में यात्री संख्या 16 लाख के करीब हो गई। साल 2018 में यह संख्या 20 लाख के करीब है। हालांकि साल 2019 में रनवे निर्माण के चलते ज्यादातर समय एयरपोर्ट बंद रहा बावजूद इसके सामान्य दिनों में हर महीने यात्रियों की संख्या डेढ़ से दो लाख के बीच रही। साल 2019 में चंडीगढ़ एयरपोर्ट से 23,50,459 यात्रियों ने सफर किया था। वहीं साल 2020 में मात्र सवा चार लाख लोगों की एयरपोर्ट पर आवाजाही रही। वहीं वर्ष 2021 में भी 20 लाख से ज्यादा लोगों ने एयरपोर्ट से सफर किया।

इन शहरों से एयरपोर्ट की सीधी कनेक्टिविटी

मौजूदा समय में चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपो‌र्ट्स से 41 फ्लाइट का संचालन हो रहा है। अहमदाबाद, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, लखनऊ, श्रीनगर, अहमदाबाद,गोवा, बेंगलुरु, हैदराबाद, कुल्लू, पुणे, धर्मशाला, लेह, लखनऊ ,कोलकाता, हिसार, देहरादून, धर्मशाला और शिमला जैसे शहरों के लिए एयरपोर्ट से सीधी फ्लाइट है।

Edited By: Jagran