चंडीगढ़, जेएनएन। लंबी बीमारी के बाद रविवार को लीविंग लीजेंड पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर ने एक बार फिर हॉकी उठाई। तीन बार की ओलंपिक विजेता हॉकी टीम के हिस्सा रहे इस खिलाड़ी ने उम्र के 95वें वर्ष में इस बार हॉकी नशे के खिलाफ उठाई है। उन्होंने नशे के खिलाफ लोगों को जागरूक करने के लिए पंजाब साइकिल रैली को रविवार को हरी झंडी दिखाई। इस साइकिल रैली में दो साइकिलिस्ट हिस्सा ले रहे हैं। इनमें मशहूर मॉडल इंदर बाजवा और दूसरे फोटोग्राफर, आर्टिस्ट गुरप्रीत धालीवाल शामिल हैं। ये लोग साइकिल पर तीन हजार किलोमीटर का सफर तय करके लोगों को नशे के खिलाफ जागरूक करेंगे।

प्रशंसकों की दुआओं से सेहत में हो रहा लगातार सुधार

बलबीर सिंह सीनियर ने इस दौरान कहा कि प्रशंसकों की दुआओं के चलते उनकी सेहत में लगातार सुधार हो रहा है। उनकी सेहत पहले के मुकाबले काफी अच्छी है। सेहत के लिए वे दिन में दो बार फिजियो सेशन लेते हैं, सैर करते हैं और योग करते हैं। यह सब रूटीन में हो, इसका पूरा ध्यान मेरा नाती रखता है। जिस दिन दो-चार दोस्त हालचाल पूछने आ जाते हैं तो उस दिन अन्य दिनों के मुकाबले और थोड़ा ज्यादा अच्छा महसूस करता हूं। बेटी सुशबीर कौर मुझे अच्छा-अच्छा खाने को देती है, मेरी डाइट का पूरा ध्यान रखती है। यही वजह है कि मैं बार-बार आइसीयू में भर्ती होता हूं और फिर ठीक हो जाता हूं।

युवा खेल से जुड़ें, नशे से रहेंगे अपने आप दूर

बलबीर सिंह सीनियर ने बताया कि सरकार युवाओं को खेलों से जोड़ दे, वे नशे की तरफ कभी नहीं जाएंगे। यह काम जमीन स्तर पर होना चाहिए। अगर हर बच्चा खेल में व्यस्त रहेगा तो उसकी अच्छी संगत होगी। अच्छी संगत से वह अच्छी बातें सीखेगा। खेल के साथ जुड़ने से खेल-खेल में जीवन की तमाम मुश्किलों से लड़ने का हुनर सीख जाता है।

महीनेभर चलेगी यह साइकिल यात्रा, 10 हजार लोगों को जोड़ेंगे

इंदर बाजवा ने बताया कि यह साइकिल यात्रा पूरे महीने चलेगी। इस यात्रा के दौरान हम 100 गांवों और शहरों से होते हुए तीन हजार किलोमीटर का सफर साइकिल पर तय करेंगे। यह यात्रा 21 अक्टूबर तक चलेगी। खास बात यह है कि इस साइकिल यात्रा के दौरान 10 हजार लोगों से मिलेंगे, इस दौरान हम लोगों को योग, स्वस्थ खानपान और नशे के बारे में जागरूक करेंगे। इस यात्रा मेरे साथ फोटोग्राफर व आर्टिस्ट गुरदीप धालीवाल हैं। गुरप्रीत इससे पहले कई देशों की साइकिल यात्रा कर चुके हैं। इस साइकिल यात्रा में सिख चैंबर ऑफ कॉमर्स उनका सहयोग कर रहा है।

बलबीर सिंह सीनियर का प्रोफाइल गोल मशीन के नाम से पूरी दुनिया में मशहूर

पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर भारत की उन तीन टीमों का हिस्सा रहे हैं जिन्होंने ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर दुनिया में देश का मान बढ़ाया है। भारत ने लंदन ओलंपिक (1948), हेल्सिंकी ओलंपिक (1952) और मेलबर्न ओलंपिक (1956) में जीता था। इसके अलावा साल 1975 में बलबीर सिंह सीनियर भारतीय हॉकी टीम के मैनेजर और चीफ कोच भी रहे हैं। उनके कोच रहते भारतीय हॉकी टीम ने व‌र्ल्ड कप जीता। साल 1971 में भारत ने पुरुषों के हॉकी व‌र्ल्ड कप में ब्रांज मेडल जीता था। लंदन ओलंपिक 2012 में सदी के चुनिंदा खिलाड़ियों को ओलंपिक कमेटी की तरफ से सम्मानित किया गया था, इसमें एशिया से इकलौते खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर थे। उनकी उपलब्धियों के चलते भारत सरकार ने 1956 में पद्मश्री से सम्मानित किया था। साल 2015 में उन्हें मेजर ध्यानचंद लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!