चंडीगढ़, [सुमेश ठाकुर]: नेशन फ‌र्स्ट, वोट मस्ट के नारे पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद लोकसभा चुनाव के लिए कूद चुकी है। पंजाब यूनिवर्सिटी की एबीवीपी इकाई पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में लोकसभा चुनाव इस बार अपनी अहम भूमिका निभाएगी। यहां के स्टूडेंट्स प्रचार के लिए राज्यों और जिलों में जाते हैं। इस बार होने वाले चुनाव के लिए पीयू के एबीवीपी दिग्गजों की ड्यूटी लग चुकी है और वह चुनाव घोषणा से कई महीने पहले ही वोटर्स को रिझाने के लिए काम कर रहे हैं। इस बार का मुख्य थीम नेशन फ‌र्स्ट, वोट मस्ट है। जिसका उद्देश्य नोटा का इस्तेमाल न करते हुए सौ प्रतिशत वोटिंग कराना है। इस कार्य के लिए आम इंसान के कहीं ज्यादा फ‌र्स्ट टाइम वोटर को रिझाने का काम किया जा रहा है। कॉलेज और यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स को वोट डालने के फायदों से अवगत कराया जा रहा है। युवाओं को बताया जा रहा है कि नोटा के दबाने से किसी भी पार्टी को कोई फायदा नहीं होगा, बल्कि लोकतांत्रिक व्यवस्था ही कमजोर होगी। ऐसे में हर कोई वोट करे।

पंजाब में हुए प्रांत स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम

एबीवीपी युवाओं को चुनाव में वोट डालने के लिए प्रेरित करने के लिए छह प्रांत स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम कर चुकी है। जिसमें चंडीगढ़ के अलावा, पटियाला, फिरोजपुर, होशियारपुर, जालंधर, लुधियाना और गुरदासपुर शमिल हैं। यहां पर बड़े स्तर पर युवाओं को बुलाकर वोट डालने के फायदे से अवगत कराया गया है। हर कार्यक्रम में संघ की तरफ से कोई विशेष अतिथि पहुंचकर युवाओं को संबोधित करते हुए उनके प्रश्नों के उत्तर भी देता है। इस कार्यक्रम में कॉलेज और यूनिवर्सिटी के युवाओं को ही शामिल किया जाता है। युवाओं का राजनीति से विश्वास उठता जा रहा है, जोकि गलत है। जब तक युवा देश में एक्टिव सहभागिता नहीं निभाएंगे, उस समय तक विकास संभव नहीं है। ऐसे में युवाओं को वोट करने की जरूरत है। बहुत ज्यादा युवा इस बार नोटा इस्तेमाल करना चाहते हैं, लेकिन हम उन्हें समझा रहे है कि नोटा इस्तेमाल करना कोई विकल्प नहीं है। उससे आम पब्लिक को ही परेशानी होगी। एक मतदाता द्वारा नोटा इस्तेमाल करने से कोई गलत प्रत्याशी जीत सकता है, जोकि समाज के विकास में बाधा बन सकता है। ऐसे में हर किसी को वोट करने के लिए आगे आने की जरूरत है। सौरभ कपूर, वरिष्ठ कार्यकर्ता, एबीवीपी ने बताया कि जो उम्मीदवार शिक्षा, रक्षा से लेकर घरेलू और आर्थिक पहलूओं पर विचार कर सके, उन्हें वोट देना जरूरी है। ऐसे में एबीवीपी पंजाब के हर जिले, कस्बे और शहर में जाकर युवाओं से अपील की रही है कि बेहतर उम्मीदवार को वोट दें। एक सही वोट देश के विकास में अहम भूमिका निभा सकता है।

पंजाब के 21 जिलों में 200 जागरूकता कैंप लगा लगाए

चिरांशु रत्न  स्टेट सेक्रेटरी, एबीवीपी की मानें तो युवाओं को जागरूक करने के लिए पंजाब के 21 जिलों में दौ सौ के करीब जागरूकता कैंप लगा चुके है। एबीवीपी लगातार युवाओं को वोट करने के लिए जागरूक कर रही है। इसके लिए हरियाणा के कॉलेज और यूनिवर्सिटी में अभियान चलाया गया है। जल्द ही डोर-टू-डोर अभियान भी शुरू किया जाएगा। जिसमें युवाओं के साथ-साथ ही उम्र के मतदाता से रू-ब-रू हुआ जाएगा और उन्हें भाजपा सरकार के फायदों से अवगत कराया जाएगा।

पीयू में किसी पार्टी के प्रचार का असर नहीं 

एबीवीपी पीयू में स्टूडेंट्स को मिलकर वोट करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। नए वोटर को सरकार के कार्यो से अवगत कराया जा रहा है, हालांकि पीयू में किसी पार्टी के प्रचार का इतना असर नहीं है, जितना वह उम्मीदवार को प्राथमिकता दे रहे हैं। ऐसे में हम बेहतर उम्मीदवार और वोट अनिवार्य तौर से देने के लिए युवाओं को प्रेरित कर रहे हैं। -परमिंदर सिंह, पीयू सेक्रेटरी, एबीवीपी

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!